Benefits of Ramayan 22 February 2021

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

🕉️🚩🌹🌞💐🍂🌷🌻🪔🍁🙏

🕉️🚩रामायण का महाज्ञानः जानें रामायण पाठ के कितने फायदे बताए हैं तुलसीदास ने

🌻 🌻🌻

🌻🚩🕉️🙏🍁🪔🌷🍂💐🌞🌹

🕉️🚩महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण के दोहे जीवन में ना सिर्फ आपको धर्म के रास्ते पर चलने की सीख देते हैं बल्कि जीवन के हर मोड़ पर आपको लाभ भी देते हैं। इस महाकाव्य में दशरथ नंदन श्रीराम और माता जानकी ही नहीं बल्कि सामाजिक जीवन को जीने के लिए संपूर्ण ज्ञान है। तुलसीदासजी ने मानव जीवन के कल्याण के लिए रामायण का पाठ बहुत जरूरी बताया है। रामायण के इन पाठ को करने से बहुत फायदे मिलते हैं। आइए आज हम आपको रामायण के कुछ बेहतरीन सूक्तियों के बारे में बताएंगे, जिनसे आपका कल्याण हो सके…

🕉️🚩 मिलती है प्रसन्नता

🕉️🚩बुध बिश्राम सकल जन रंजनि। रामकथा कलि कलुष बिभंजनि॥
रामकथा कलि पंनग भरनी। पुनि बिबेक पावक कहुँ अरनी॥
तुलसीदासजी ने कहा है कि रामकथा पंडितों को विश्राम देने वाली होती है। साथ ही मनुष्य को हर तरह से प्रसन्नता मिलती है। कलियुग में राम नाम से बढ़कर और कोई नाम नहीं है। रामायण के पाढ़ से सभी पापों का अंत होता है।

🕉️🚩कलियुग में केवल राम नाम

🕉️🚩रामकथा कलियुग रूपी सांप के लिए मोरनी के समान है। कलियुग में आप जितना राम का नाम लेंगे, जीवन आपका उतना ही सरल होगा। क्योंकि मोक्ष का केवल एक ही नाम है और वो है केवल राम। विवेकरूपी अग्नि के प्रकट करने के लिए अरणि (मंथन की जाने वाली लकड़ी) है। अर्थात इस कथा से ज्ञान की प्राप्ति होती है।

🕉️🚩 बनी रहती है सुख-शांति

🕉️🚩रामकथा कलि कामद गाई। सुजन सजीवनि मूरि सुहाई॥
सोइ बसुधातल सुधा तरंगिनि। भय भंजनि भ्रम भेक भुअंगिनि॥
दोहे में लिखा है कि रामकथा कलियुग में सब मनोरथों को पूर्ण करने वाली कामधेनु गौ के समान है और सज्जनों के लिए सुंदर संजीवनी जड़ी बूटी है। जिस घर में हर रोज रामयण का पाढ़ होता है, उस घर में लक्ष्मी सदैव निवास करती है और सुख-शांति बनी रहती है। रामयण का पाढ़ करने से आपके सभी कार्य पूर्ण होते हैं।

🕉️🚩राम का नाम ही सर्वोपरि

🕉️🚩दोहे में आगे लिखा है कि रामयण का पाढ़ पृथ्वी पर अमृत की नदी के समान हैं। यह जन्म-मरण रूपी भय का नाश करने वाली और भ्रमरूपी मेढ़कों को खाने के लिए सर्पिणी है। रामयण का पाढ़ करने से हम संसार रूपी भवसागर से पार पा लेते हैं और कलियुग में राम का नाम ही सर्वोपरि है।

🕉️🚩पापों से मिलती है मुक्ति

🕉️🚩असुर सेन सम नरक निकंदिनी। साधु बिबुध कुल हित गिरिनंदिनी।
संत समाज पयोधि रमा सी। बिस्व भार भर अचल छमा सी।।
दोहे में लिखा है कि रामकथा असुरों की सेना के समान नरकों का नाश करने वाली है। इसका पाढ़ पढ़कर सभी तरह के कष्ट और पाप से मुक्ति मिलती है। साथ ही साधु रूप देवताओं के कुल का हित करने वाली पार्वती (दुर्गा) के समान है। यह हमको हर तरह के कष्टों से बचाती है और मानव कल्याण के लिए रास्ता दिखाती है।

🕉️🚩 मुक्ति का मार्ग होता है प्रशस्त

🌹🚩दोहे में आगे लिखा है कि संत समाज रूपी क्षीर सागर के लिए लक्ष्मीजी के समान है और संपूर्ण विश्व का भार उठाने में अचल पृथ्वी के समान है। रामायण का पाढ़ करने से मुक्ति का मार्ग प्रशस्त होता है।

🌹🚩🌺🙏🍁🪔🌻🌷🍂💐🌞

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

four × one =

Related Posts

Maa Kali 23 December 2020

Spread the love   0      Tweet     काली :दस महाविद्या में काली प्रथम रूप है। माता का यह रूप साक्षात और जाग्रत है। काली के रूप में माता का किसी भी प्रकार से अपमान करना

Vasant Panchami

Spread the love          Tweet     : बसंत पंचमी की पूजा विधि व महत्व〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️बसंत पंचमी भारतीय संस्कृति में एक बहुत ही हर्षोल्लास के साथ मनाया जाने वाला त्यौहार है जिसमे हमारी परम्परा, भौगौलिक परिवर्तन

Who is Bhagwan Shree Krishna

Spread the love          Tweet     • कौन है भगवान् श्रीकृष्ण ?…जिसमें प्रभु के गुणों और स्वरूपों की व्याख्या…. सुन्दर स्वरूपभगवान् श्रीकृष्ण के शरीर के विभिन्न अंगों की तुलना विविध भौतिक वस्तुओं से नहीं