Diet according to your Prakriti

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


⛄🌫️कफ प्रकृति के अनुरूप आहार (cough prakriti diet plan) :

👉कफ प्रकृति वालों के लिए तीखा, कड़वा और कसैला स्वाद वाले भोजन दोष को संतुलित करते हैं। भोजन चटपटा और गर्म खाना पसंद किया जाता है। कफ प्रकृति वालों को वसा और तले हुए भोजनों से सावधान रहना चाहिए। कफ हावी रहने वालों के लिए सिफारिश किए गए भोजन

🔆अनाज : बासमती चावल किफायती मात्रा में, बाजरा, मक्का, जौ, राई।

🔆सब्जियां : तीखी, कड़वी और कसैली सब्जियां पसंद की जानी चाहिए, ब्रोकली, फूलगोभी, चिकोरी, चुकुंदर, गाजर, सिलेरी, एस्पैरागस, भिंडी, पेपरिका, मटर, लाल पत्ता गोभी, सफेद पत्ता गोभी, हरी पत्तेदारी सब्जियां, लेट्यूस, स्प्राउट्स, मूली, छोटी मूली, सौंफ।

🔆दालें : दालें, चना दाल, तुअर दाल, पीली मूंग दाल, छोले, लाल दालें।

🔆फल : सेव, बेरीज, आम, नाशपाती, अनार, चेरीज, सूखे हुए अखरोट,किशमिश, आलूबुखारा और फिग्स।

🔆दूध के उत्पाद : दूध के उत्पाद किफायत से, क्योंकि वे कफ प्रकार वालों में अपशिष्ट पदार्थ बनाते हैं। छाछ, लस्सी।

🔆तेल और वसा : केवल छोटी मात्राओं में। घी, सूरजमुखी का तेल, सैफ्लावर तेल, ऑलिव ऑयल।

🔆मेवे और बीज : इन्हें भी केवल कम मात्रा में लेना है । सूरजमुखी के बीज, कद्दू के बीज, पिस्ता।

🔆स्वीटर/शक्कर : शहद, गुड़ सीमित मात्रा में।

🔆मसाले : हींग, अदरक, मिर्ची, काली मिर्च, धनिया के बीज, हल्दी, दालचीनी, लौंग, इलायची, जीरा, सरसों के दाने, मेथी के दाने, काला जीरा, ऑलस्पाइस (पंचमसाला)।

🔆जड़ी-बूटियां (Herbs) : पार्सले, हरा धनिया, तुलसी, लेमन बाम, टैरागन, लोवेज।

 

🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆

🔥⚗️पित्त प्रकृति के अनुरूप आहार (pitta prakriti diet plan) :

👉पित्त सरंचना के लिए मीठा, कड़वा और कसैला स्वाद में दोषों पर संतुलित असर होता है। पित्त प्रकारों को ठंडक भरा खाना और पेय की जरुरत होती है और निम्नलिखित भोजनों को पसंद करना चाहिए

🔆अनाज : बासमती चावल, गेहूं, सूजी, ओट्स, जौ, कूसकूस।

🔆सब्जियां : सब्जियां जिनका स्वाद या तो मीठा, कड़वा या कसैला हो । आर्टिचोक्स, आलू, हरी बीन्स, कॉर्जेट्स, चिकोरी, हरी पत्तेदार सब्जियां, लेट्यूस, भिंडी, एस्पैरागस, खीरा, फूलगोभी, ब्रोकली, लाल पत्ता गोभी, सफेद पत्तागोभी, मटर, कद्दू, लौकी।

🔆दालें : सभी तरह की दालें, जैसे – लाल दालें, चना दाल, उड़द दाल, पीली मूंग दाल, छोले ।

🔆फल : केला, नाशपाती, फिरस, खजूर, आम, अंगूर, मीठी चेरीज, नारियल, तरबूज, आलू बुखारा, किशमिश, अनार और मीठे, पके हुए सेब।

🔆दूध के उत्पाद : दूध, क्रीम, क्रीम चीज, लस्सी, ठंडी आईस-क्रीम (शर्बत) लेकिन किफायत से।

🔆तेल और वसा : घी, मक्खन, नारियल तेल, ऑलिव ऑयल।

🔆मेवे और बीज : नारियल, हरे पिस्ता, ।

🔆स्वीटनर (शक्कर) : शक्कर, गुड़, पॉम शुगर।

🔆मसाले : धनिया, जीरा, सौंफ, किफायती मात्रा में अदरक, इलायची,केसर, जरा सी काली मिर्च, दालचीनी।

🔆जड़ी-बूटियां : बेसिल (तुलसी), हरा धनिया, मिन्ट, पार्सले, सेज, लेमन बाम ,सभी मीठी, कसैली और कड़वे स्वाद वाली जड़ी-बूटियां।

       

🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆

💨🧬वात प्रकृति के अनुरूप आहार (vata prakriti diet plan) :

👉वात प्रकृति वाले लोगों के लिए मीठे, खट्टे और नमकीन स्वाद का दोष पर संतुलित असर पड़ता है।
वात प्रकारों को भी गर्म भोजन और पेय पदार्थों को महत्व देना चाहिए।

☝🏻निम्नलिखित भोजनों की सिफारिश की जाती हैं।

🔆अनाज : गेहूं, ओट्स/ जई, सूजी, बासमती चावल। अनाजों को पकाना उत्तम रहता है।

🔆सब्जियां : अच्छे से पकी सब्जियां, कम या बिल्कुल भी कच्चा भोजन नहीं, चुकुंदर, गाजर, खीरा, भिंडी, शकरकंद, स्टीम की गयी मूली, सिलेरी, एस्पैरागस, ताजी मटर, आलू, टमाटर, हरी पत्तेदार सब्जियां।

🔆दालें : पीली मूंग दाल, मसूर दाल (दोनों छिलके सहित), अच्छी क्वालिटी के पके हुए छोलें जब वे मुलायम हों।

🔆फल : मीठे, पके हुए फल जैसे अंगूर, आम, केले, अवकाडो, तरबूत, पपीता, बेरीज, चेरीज, नारियल, ताजे अंजीर, ताजे खजूर, संरते, आडू, नेक्टरीन्स, पाइनेप्पल, आलू बुखारा, ढेर सारे सेव और नाशपाती, मुख्यतया स्ट्यू किए गए।

🔆दूध के उत्पाद : दूध, क्रीम, क्रीम चीज, लस्सी, खट्टे दूध के उत्पाद।

🔆तेल और वसा : घी, मक्खन, तल का तेल, सूरजमुखी का तेल, ऑलिव ऑयल।

🔆मेवे और बीज : काजू, कद्दू के बीज, साबुत बादाम, तिल के बीज, सूरजमुखी के बीज।

🔆स्वीटनर (शक्कर) : पाम शुगर, गुड़, मैपल सिरप, शहद, कैंडी शुगर।

🔆मसाले : अनीज, हींग, मेथी, जीरा, हल्दी, सौंफ, अदरक, इलायची, लौंग, जायफल, कलौंजी, नमक, सरसों के दाने, काली मिर्च, दालचीनी।

🔆जड़ी-बूटियां : तुलसी, लेमन बॉम, मार्जोरम, ऑरिगानो, थाइम। सभी मीठी, खट्टी

🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆🔅🔆

1 thought on “Diet according to your Prakriti”

  1. Dianna Carstensen says:

    YOU NEED QUALITY VISITORS for your: religionfactsandscience.com

    My name is Dianna Carstensen, and I’m a Web Traffic Specialist. I can get:
    – visitors from search engines
    – visitors from social media
    – visitors from any country you want
    – very low bounce rate & long visit duration

    CLAIM YOUR 24 HOURS FREE TEST => https://bit.ly/3h750yC

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

15 + 17 =

Related Posts

Pravachan 9 May 2020

Spread the love          Tweet     “कुपात्रों को धन देना व्यर्थ है।” जिसका पेट भरा हुआ हो, उसे और भोजन कराया जाए, तो वह बीमार पड़ेगा और अपने साथ दाता को भी अधोगति के

Benefits of Pranayam 2 September 2020

Spread the love          Tweet     🙏🙏🌹🌹💐💐 प्राणायाम के नियम, लाभ एवं महत्वश्वास-पश्वास की गति को यथाशक्ति अनुसार नियंत्रित करना प्राणायाम कहलाता है। प्राणायाम के चार प्रकार है :-बाह्यवृतिआभ्यन्तरवृतिस्तम्भवृत्तिबाह्याभ्यन्तर विषयाक्षेपिबाह्यवृति प्राणायाम विधि : सुख

Pravachan 7 December 2020

Spread the love          Tweet      संसार एक पड़ाव है और पड़ाव पर कभी चीरस्थाई शांति नहीं हो सकती। थोड़ी देर विश्राम हो सकता है,लेकिन आनंद भी हो सकता अगर परमात्मा से वास्तविक