Geeta gyan 2 of 9 December 2019

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

गीता जयंती एक प्रमुख पर्व है हिंदु पौरांणिक ग्रथों में गीता का स्थान सर्वोपरि रहा है।

गीता ग्रंथ का प्रादुर्भाव मार्गशीर्ष मास में शुक्लपक्ष की एकादशी को कुरुक्षेत्र में हुआ था। महाभारत के समय श्री कृष्ण द्वारा अर्जुन को ज्ञान का मार्ग दिखाते हुए गीता का आगमन होता है। इस ग्रंथ में छोटे-छोटे अठारह अध्यायों में संचित ज्ञान मनुष्यमात्र के लिए बहुमूल्य रहा है।

कर्मण्यवाधिकारस्ते मा फलेषु कदाचन |
मा कर्मफलहेतुर्भूर्मा ते सङ्गोSस्त्वकर्मणि ||

मनुष्य के हाथ में केवल कर्म करने का अधिकार है फल की चिंता करना व्यर्थ अर्थात निस्वार्थ भाव से अपने कर्तव्यों का पालन करना चाहिये। स्वंय भगवान श्री कृष्ण ने अपने मुखारबिंद से कुरुक्षेत्र की धरा पर श्रीमद्भगवदगीता का उपदेश दिया।

गीता का ज्ञान गीता पढ़ने वाले को हर बार एक नये रूप में हासिल होता है। मानव जीवन का कोई ऐसा पहलू नहीं है जिसकी व्याख्या गीता में न मिले। बहुत ही साधारण लगने वाले हिंदू धर्म के इस पवित्र ग्रंथ की महिमा जितनी गायी जाये उतनी कम है। किसी भी धर्म में ऐसा कोई ग्रंथ नहीं है जिसके उद्भव का जिसकी उत्पति का दिन महोत्सव के रूप में मनाया जाता हो एकमात्र गीता ही वह ग्रंथ है जिसके आविर्भाव के दिन को बतौर जयंती मनाया जाता है।

कब मनाई जाती है गीता जयंती?????

ब्रह्मपुराण के अनुसार भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का उपदेश मार्गशीर्ष माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी को दिया था। इसलिये इस दिन को गीता जयंती के रूप में मनाया जाता है। इस दिन हिंदू धर्म के अनुयायी श्रीमद्भगवद् गीता का पाठ करवाते हैं।

वर्तमान में गीता की लोकप्रियता वैश्विक स्तर पर होने लगी है, विभिन्न भाषाओं में इसके अनुवाद से पूरी दुनिया में गीतोपदेश की स्वीकार्यता मानवता के उद्धारक, कल्याणकारी ग्रंथ के रूप में होने लगी हैं। अब गीता जयंती के उत्सव में विभिन्न धर्मों के लोग भी बढ़चढ़ कर भाग लेते हैं।

क्या है कथा ?????

गीता के आविर्भाव की कहानी महाभारत में मिलती है। दरअसल गीता महाभारत के अध्याय का ही हिस्सा है। हुआ यूं कि जब कुरुक्षेत्र के मैदान में कौरव और पांडव एक दूसरे के आमने सामने हो गये और युद्ध की घड़ी आ गई तो अर्जुन ने अपने सामने गुरु द्रोण, भीष्म पितामह आदि को सामने पाया।

उस समय उसे आभास हुआ कि वह किसके लिये युद्ध कर रहा है, किसके खिलाफ कर रहा है, ये सब तो मेरे अपने हैं, इनकी गोद में मैं खेला हूं, इनसे मैंने शिक्षा प्राप्त की है, ये मेरे ही भाई-बंधु हैं इन्हें मारकर हासिल किये मुकुट को मैं कैसे धारण कर सकूंगा।

कुल मिलाकर अर्जुन ने कुरुक्षेत्र की रणभूमि में अवसादग्रस्त होकर हथियार त्याग दिये। ऐसे में उनके सारथी बने भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को कर्तव्य विमुख होने बचाने के लिये गीता का उपदेश दिया। इसमें उन्हें आत्मा-परमात्मा से लेकर धर्म-कर्म से जुड़ी अर्जुन की हर शंका का निदान किया।

भगवान श्री कृष्ण और अर्जुन के बीच हुये ये संवाद ही श्रीमद्भगवद गीता का उपदेश हैं। इस उपदेश के दौरान ही भगवान श्री कृष्ण अर्जुन को अपना विराट रूप दिखलाकर जीवन की वास्तविकता से उनका साक्षात्कार करवाते हैं। तब से लेकर अब तक गीता के इस उपदेश की सार्थकता बनी हुई है और चिरकाल तक बनी रहेगी क्योंकि यह स्वयं भगवान के मानवता के कल्याण के लिये निकला उपदेश है।

भगवद् गीता का महत्व,,,,,श्रीमद् भगवद् गीता का मानव जीवन के लिये बहुत अधिक महत्व है। इसका उपदेश मनुष्य को जीवन की वास्तविकताओं से परिचित करवाता है। उन्हें निस्वार्थ रूप से कर्म करने के लिये प्रेरित करता है।

इन्हें कर्तव्यपरायण बनाता है। सबसे अहम बात यह भी है कि जब भी आप किसी भी तरह की शंका में घिरे हों, गीता का अध्ययन करें आपका उचित मार्गदर्शन अवश्य होगा। इसके अध्ययन, श्रवण, मनन-चिंतन से जीवन में श्रेष्ठता का भाव आता है। लेकिन इसके संदेश में मात्र संदेश नहीं हैं बल्कि ये वो मूल मंत्र हैं जिन्हें हर कोई अपने जीवन में आत्मसात कर पूरी मानवता का कल्याण कर सकता है।

गीता अज्ञानता के अंधकार को मिटाकर आत्मज्ञान से भीतर को रोशन करती है। अज्ञान, दुख, मोह, क्रोध, काम, लोभ आदि से मुक्ति का मार्ग बताती है गीता। दरअसल गीता भगवान श्री कृष्ण द्वारा अपने भक्तों के उद्धार के लिये गाया हुआ मधुर गीत ही है। अर्जुन तो उसे हम तक पंहुचाने का जरिया मात्र बने हैं।

इस दिन को मोक्षदा एकादशी का उपवास भी रखा जाता है। भगवान श्री कृष्ण आपकी मनोकामनाओं को पूर्ण करें व भगवद् गीता आपके जीवन के अंधकार को मिटाकर उसे ज्ञान से रोशन करे।

आप सभी को पण्डितजी ओर उनके परिवार की ओर से गीता जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fifteen − 8 =

Related Posts

Vishwakarma Jayanti Puja and details

Spread the love          Tweet     : विश्वकर्मा पूजा का महत्व एवं पूजा विधि और कथा विश्वकर्मा जयंती इस वर्ष 17 सितंबर 2019 को मंगल के दिन मनाई जायेगी | प्रत्येक बर्ष विश्वकर्मा पूजा

Story of Maa Vaishno Devi and Bhaironath

Spread the love          Tweet     मातावैष्णो देवी और भैरोंनाथ की कथा ?〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️हिंदू महाकाव्य के अनुसार, मां वैष्णो देवी ने भारत के दक्षिण में रत्नाकर सागर के घर जन्म लिया। उनके लौकिक माता-पिता लंबे

Shree Madbhagwad Geeta

Spread the love          Tweet     जीवन का ऐसा कोई क्षेत्र नहीं जिसे गीता ने स्पर्श ना किया हो, जीवन की ऐसी कोई समस्या नहीं जिसका समाधान गीता से न प्राप्त किया जा सके।