Know your Body 13 January 2021

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

🌞 शरीर रचना
———

🌹 मुख – किसान है जो आहार तैयार करता है।
🌹 जीभ – उसकी सहायक कर्मचारी है जो खेत जोतती है।
🌹 दांत – उसके हल है जो अन्न को बोते हैं।
🌹 दाढ़ – उसकी चक्की है जो अन्न को पीसती है।
🌹 गला – उसका भोजनालय द्वार है जो भोजन को पेट में पहुंचाता है।
🌹 पेट – रसोई है जहां भोजन पकता है।
🌹 यकृत – लीवर रसोईया है जो भोजन को पकाता है (यानी रस बनाता है)
🌹 पित्ताश्य – मसाला दानी है जो उसमें पित्त मिलाता है।
🌹 अग्नाशय – भट्टी है जहां से अग्नि मिलती है।
🌹 आंते – मुख है जो भोजन को ग्रहण करती है।
🌹मलाशय – कूड़ा दान है जहां कचरा इकट्ठा होता है।
🌹 रक्त – शुद्ध भोजन है जो शरीर कोषों का पोषण करता है।
🌹 हृदय – परोसने वाला कर्मचारी है जो सब तक रक्त रूपी भोजन पहुंचाता है।
🌹 धमनिया – मार्ग है जिससे भोजन पहुंचया जाता है।
🌹 फेफड़े – खिड़कियां है जिससे शुद्ध वायु घर में आती है।
🌹 रीढ़ – बिजली का खंबा है जिस पर ट्रांसफार्मर लगा कर तार जोडे जाते है।
🌹 चक्र ट्रांसफार्मर है जो विभिन्न संस्थानों को विद्युत सप्लाई देते हैं।
🌹 नाड़ी संस्थान – तार की लाइनें हैं जिससे विद्युत आपूर्ती होती है।
🌹 मांसपेशियां – क्रेन है जो सामग्री को उठाने का कार्य करती है।
🌹 आंखें – हेड लाइट व कैमरा है जिसमें शरीर रूपी गाड़ी चलती है तथा दृश्य रिकॉर्ड होते हैं।
🌹 कान – संदेश ग्रहण यंत्र (रिसिवर) है जिससे संदेश प्राप्त होता है।
🌹 नाक – एयर कंडीशनर व एयर फिल्टर है, जो तापक्रम को ठीक रखते हैं व वायु को छानते है।
🌹 अंगुलियां हुक है, जो पकड़ने का काम करती है।
🌹 मस्तिष्क – कंप्यूटर रूम है , जहां सूचनाएं इकट्ठी रहती है तथा उनका आदान प्रदान होता है।
🌹 गुदा – सीवर लाइन है जहां से रद्दी सामान बहता है।
🌹 गुर्दा – सफाई कर्मचारी है जो रक्त की सफाई करता है।
🌹 मुत्राशय – नाबदान है। जहां बेकार पानी भरता है।
🌹 होंठ – मुख्य द्वार है शरीर रूपी घर में जाने का।
🌹 पैर – पहिया है शरीर रूपी गाड़ी को चलाने का।
🌹 नाभि शरीर रूपी गाड़ी का मुख्य धूर्रा व अग्निकुंड का मुख्य भाग है।
🌹 यौनांग – फैक्ट्री है नई मशीन बनाने की।
🌹 घुटने – गियर बॉक्स है शरीर रूपी गाड़ी के।
🌹 कोष (शैल) इस शरीर रूपी घर में रहने वाले सभी सदस्य हैं।
🌹 प्राण – विद्युत शक्ति है जिससे शरीर चलता है प्रकाशित होता है।
🌹 जीवनी शक्ति – गृहणी है जो घर के सारे कार्य करती है।
🌹 मन – इस शरीर का संचालक घोड़ा है।
🌹 बुद्धि – इस शरीर की सारथी है।
🌹 आत्मा – शरीर पर सवार यात्री है।
☝️ आत्मा रूपी सवार के उतरते ही , बुद्धि रूपी सारथी व मन रूपी घोड़ा भी शरीर रूपी गाड़ी से अलग हट जाते हैं व आत्मा रूपी राजा के साथ चले जाते हैं।
हे मानव यही सत्य है तुम्हारी इस काया का
👉ऐसा कोई सुख भोग नहीं।
👉जिसके पीछे कोई दु:ख रोग नहीं।

🙏

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

6 + one =

Related Posts

Hemorrhoids yani Bavasir

Spread the love          Tweet     बवासीर होने के कारण, लक्षण और अचूक आयुर्वेदिक इलाज बवासीर एक ऐसी बीमारी है. जिसमें बहुत ज्यादा कष्ट से गुजरना पड़ता है. बवासीर को अंग्रेजी में पाइल्स कहा

Bhasm of Cowdung

Spread the love   0      Tweet     गाय के गोबर का भस्म अगर आप गौ-भस्म को ध्यान से पढ़ेगें तो पायेंगे कि यह गौ भस्म ( राख ) आपके लिए कितनी उपयोगी है । साधू

Remedies for Kamardard 31 July 2020

Spread the love          Tweet     कमरदर्द-जोड़ों का दर्द: यह रोग उन स्त्री-पुरुषों को हो जाता है, जो अधिक देर तक बैठे-बैठे, खड़े-खड़े या गलत मुद्रा में बैठकर अथवा लेटकर कार्य करते हैं। जो