Manikarnika Ghat of Kashi Varanasi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

मणिकर्णिका घाट स्नान
*
यहां शव से पूछते हैं ‘क्या उसने शिव के कान का कुंडल देखा’ ………
*
मणिकर्णिका घाट, यहां स्नान करने का हिंदू धर्म में बहुत महत्व है। काशी में यह सबसे प्रसिद्ध और पुरातन श्मशान घाट है..
*
कार्तिक माह शुक्ल पक्ष की चौदस, वैकुण्ठ चतुर्दशी के दिन यहां स्नान का विशेष महत्व बताया गया है। यहाँ मणिकर्णिका स्नान का बहुत महत्व है, श्मशान अतिप्राचीन बताया जाता है। कहा जाता है कि यहां भगवान शिव अपने औघढ़ स्वरूप में सदैव ही निवास करते हैं..
*
इस श्मशाम में चिता की आग कभी ठंडी नही होती। यहां अंतिम क्रिया के बाद मृतक को सीधा मोक्ष प्राप्त होता है। यहां शिव और मां दुर्गा का प्रसिद्ध मंदिर है। जिसे मगध शासकों ने बनवाया था। यहां अंतिम क्रिया की परंपरा करीब 3 हजार साल पुरानी बताई जाती है..
.
यहीं गिरा था माता सती का कुंडल………
*
एक पौराणिक कथा के अनुसार माता सती के स्वयं को अग्नि को समर्पित करने के बाद शिव उनका शरीर लिए हजारों साल तक भटकते रहे। तब भगवान विष्णु ने सती के शरीर को सुदर्शन से खंड-खंड कर दिया। जिसके बाद 51 शक्तिपीठों का निर्माण हुआ।
*
काशी के इस घाट पर माता सती के कान का कुंडल गिरा था। इसी कारण इसे मणिकर्णिका घाट कहा जाता है।
*
योगनिद्रा से जागकर किया था शिव ने स्नान……
*
इसके अतिरिक्त यह भी कहा जाता है कि भगवान शिव सती के जाने के बाद लाखों वर्षों तक योगनिद्रा में बैठे रहे। तब भगवान विष्णु ने अपने चक्र से एक कुंड बनाया जहां योगनिद्रा से उठने के बाद शिव ने स्नान किया। उसी कुंड में भगवान शिव का कुंडल खो गया जो आज तक नहीं मिला। तभी से इसे मणिकर्णिका घाट कहा जाता है और कार्तिक मास की चैदस को यहां स्नान पुण्यकारी माना गया है ऐसा भी कहा जाता है कि जब भी यहां जिसका दाह संस्कार किया जाता है..
.
अग्निदाह से पूर्व उससे पूछा जाता है, क्या उसने भगवान शिव के कान का कुंडल देखा।
.
मणिकर्णिका घाट का स्नान स्वयं भगवान विष्णु ने किया था। यहां वैकुण्ठ चौदस की रात्रि के तीसरे प्रहर पर श्रद्धालु स्नान करने आते हैं। कार्तिक माह में यहां हजारों की संख्या में भक्त एकत्रित होते हैं।

            

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

fourteen − six =

Related Posts

What is Bhakti

Spread the love          Tweet     “नवधा भक्ति” : “नवधा भगति” कहउं तोहि पाहीं। सावधान सुनु धरू मन माहीं।। “नवधा” भगति – नवधा (नौ +विधा)अर्थात् भक्ति को नौ भागों में विभक्त किया गया है

Maa Mundeshwari Temple

Spread the love          Tweet     जय माँ मुंडेश्वरी भारत के प्राचीनतम मंदिर ‘मुंडेश्‍वरी’ को देखने एक बार जरूर जाएं! यदि आपकी पर्यटन व तीर्थाटन में रुचि है तो आपको कैमूर पहाड़ पर मौजूद

Tips about Rudraksh 23 January 2021

Spread the love          Tweet     रुद्राक्ष यानि रुद्र+अक्ष, रुद्र अर्थात भगवान शंकर व अक्ष अर्थात आंसू। भगवान शिव के नेत्रों से जल की कुछ बूंदें भूमि पर गिरने से महान रुद्राक्ष अवतरित हुआ।