No Agarbatti in Sanatan Dharam

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

हिंदू धर्म में अगरबत्ती जलाना पूर्णतया वर्जित है, जानिए क्यों ??

क्या आपने कभी सोचा है कि हम अक्सर शुभ(जैसे हवन अथवा पूजन) और अशुभ(दाह संस्कार) कामों के लिए विभिन्न प्रकार के लकड़ियों को जलाने में प्रयोग करते है लेकिन क्या आपने कभी कि किसी काम के दौरान बांस की लकड़ी को जलता हुआ देखा है। नहीं ना ?

भारतीय संस्कृती, परंपरा और धार्मिक महत्व के अनुसार, ’हमारे शास्त्रों में बांस की लकड़ी को जलाना वर्जित माना गया है। यहां तक की हम अर्थी के लिए बांस की लकड़ी का उपयोग तो करते है लेकिन उसे चिंता में जलाते नहीं।‘ हिन्दू धर्मानुसार बांस जलाने से पितृ दोष लगता है, वहीं जन्म के समय जो नाल माता और शिशु को जोड़ के रखती है, उसे भी बांस के वृक्षो के बीच मे गाड़ते है, ताकि वंश सदैव बढ़ता रहे।

क्या इसका कोई वैज्ञानिक कारण है ?

बांस में लेड व हेवी मेटल प्रचुर मात्रा में पाई जाती है। लेड जलने पर लेड ऑक्साइड बनाता है जो कि एक खतरनाक नीरो टॉक्सिक है हेवी मेटल भी जलने पर ऑक्साइड्स बनाते हैं। लेकिन जिस बांस की लकड़ी को जलाना शास्त्रों में वर्जित है, यहां तक कि चिता मे भी नही जला सकते, उस बांस की लकड़ी को हमलोग रोज़ अगरबत्ती में जलाते हैं। अगरबत्ती के जलने से उतपन्न हुई सुगन्ध के प्रसार के लिए फेथलेट नाम के विशिष्ट केमिकल का प्रयोग किया जाता है। यह एक फेथलिक एसिड का ईस्टर होता है जो कि श्वांस के साथ शरीर में प्रवेश करता है, इस प्रकार अगरबत्ती की तथाकथित सुगन्ध न्यूरोटॉक्सिक एवम हेप्टोटोक्सिक को भी स्वांस के साथ शरीर मे पहुंचाती है।

इसकी लेश मात्र उपस्थिति केन्सर अथवा मष्तिष्क आघात का कारण बन सकती है। हेप्टो टॉक्सिक की थोड़ी सी मात्रा लीवर को नष्ट करने के लिए पर्याप्त है। शास्त्रो में पूजन विधान में कही भी अगरबत्ती का उल्लेख नही मिलता सब जगह धूप ही लिखा है हर स्थान पर धूप, दीप, नैवेद्य का ही वर्णन है। अगरबत्ती का प्रयोग भारतवर्ष में इस्लाम के आगमन के साथ ही शुरू हुआ है। इस्लाम मे ईश्वर की आराधना जीवंत स्वरूप में नही होती, परंतु हमारे यंहा होती है। मुस्लिम लोग अगरबत्ती मज़ारों में जलाते है, उनके यंहा ईश्वर का मूर्त रूप नही पूजा जाता। हम हमेशा अंधानुकरण ही करते है और अपने धर्म को कम आंकते है। जब कि हमारे धर्म की हर एक बातें वैज्ञानिक दृष्टिकोण के अनुसार मानवमात्र के कल्याण के लिए ही बनी है। अतः कृपया सामर्थ्य अनुसार स्वच्छ धूप का ही उपयोग करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

sixteen − twelve =

Related Posts

Faith, belief and Gupt Mantra

Spread the love          Tweet     श्रद्धा – विश्वास मंत्र ,तंत्र,यंत्र उपासना ,ज्ञानयोग ,कर्मयोग,सहजयोग ओर नवधा भक्ति भी सफल होती है जब मंत्र या गुरु या देव पर पूर्ण श्रद्धा और विश्वास हो याभ्यां

Ancient science ,Grahafal and your immunity

Spread the love          Tweet     ऐसेमिलतीहैभोगजन्यरोगोंसेमुक्ति देह , मन एवं आत्मा में प्रतिरोधक क्षमता अभूतपूर्व में होती है और यह क्षमता इन्हें नैसर्गिक रूप से प्राप्त है ,परंतु विभिन्न कारणों से जब यह

Shree Krishna Teachings

Spread the love          Tweet     ब्रह्मांड का सबसे बडा़ धनुर्धारी उस दिन परेशान था..वह अपने अवचेतन मन से ही एक लंबे समय ये लडा़ई कर रहा था….उसने कान्हा की ओर देखा और तुरंत