Remedies for Khuni Bavasir yani Bloody Piles or Hemorrhoids

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

खूनी बवासीर के सरल इलाज

1.पहला प्रयोगः जीरे का लेप अर्श पर करने से एवं 2 से 5 ग्राम जीरा उतने ही घी-शक्कर के साथ खाने से एवं गर्म आहार का सेवन बंद करने से खूनी बवासीर में लाभ होता है।
2.दूसरा प्रयोगः बड़ के दूध के सेवन से रक्तप्रदर व खूनी बवासीर का रक्तस्राव बन्द होता है।

3.तीसरा प्रयोगः अनार के छिलके का चूर्ण नागकेशर के साथ मिलाकर देने से अर्श (बवासीर) का रक्तस्राव बंद होता है।

4.चौथा प्रयोग : दो सूखे अंजीर शाम को पानी में भिगो दे। सवेरे के भगोये दो अंजीर शाम चार-पांच बजे खाएं। एक घंटा आगे पीछे कुछ न लें। आठ दस दिन के सेवन से बादी और खुनी हर प्रकार की बवासीर ठीक हो जाती है।

5.पाँचवा प्रयोग :- बवासीर को जड़ से दूर करने के लिए और पुन: न होने के लिए छाछ सर्वोत्तम है। दोपहर के भोजन के बाद छाछ में डेढ़ ग्राम ( चौथाई चम्मच ) पीसी हुई अजवायन और एक ग्राम सेंधा नमक मिलाकर पीने से बवासीर में लाभ होता है और नष्ट हुए बवासीर के मस्से पुन: उत्प्न्न नही होते।

6.छठा प्रयोग :-नारियल की जटा से करे खुनी बवासीर का एक दिन में इलाज। नारियल की जटा लीजिए। उसे पूरी तरह जला दीजिए। जलकर भस्म बन जाएगी। इस भस्म को शीशी में भर कर ऱख लीजिए। कप डेढ़ कप छाछ या दही के साथ नारियल की जटा से बनी भस्म तीन ग्राम खाली पेट दिन में तीन बार सिर्फ एक ही दिन लेनी है। ध्यान रहे दही या छाछ ताजी हो खट्टी न हो। कैसी और कितनी ही पुरानी पाइल्स की बीमारी क्यों न हो, एक दिन में ही ठीक हो जाती है।

यह नुस्खा किसी भी प्रकार के रक्तस्राव को रोकने में कारगर है। महिलाओं के मासिक धर्म में अधिक रक्तस्राव या श्वेत प्रदर की बीमारी में भी कारगर है। हैजा, वमन या हिचकी रोग में यह भस्म एक घूँट पानी के साथ लेनी चाहिए।

दवा लेने के एक घंटा पहले और एक घंटा बाद तक कुछ न खाएं तो चलेगा। अगर रोग ज्यादा जीर्ण हो और एक दिन दवा लेने से लाभ न हो तो दो या तीन दिन लेकर देखिए।

विशेष :- ” अच्युताय हरिओम हिंगादी चूर्ण “ सभी प्रकार की बवासीर मे चमत्कारिक लाभ पहुचाता हैं ।

बवासीर में क्या खाये :-

1, करेले का रस, लस्सी, पानी।
2, दलिया, दही चावल, मूंग दाल की खिचड़ी, देशी घी।
3, खाना खाने के बाद अमरुद खाना भी फायदेमंद है।
4, फलों में केला, कच्चा नारियल, आंवला, अंजीर, अनार, पपीता खाये।
5, सब्जियों में पालक, गाजर, चुकंदर, टमाटर, तुरई, जिमीकंद, मूली खाये।

बवासीर में परहेज क्या करे:

  1. तेज मिर्च मसालेदार चटपटे खाने से परहेज करे।
    2 मांस मछली, उडद की दाल, बासी खाना, खटाई ना खाएं।
  2. डिब्बा बंद भोजन, आलू, बैंगन।
  3. शराब, तम्बाकू।
  4. जादा चाय और कॉफ़ी के सेवन से भी बचे।

बवासीर से बचने के उपाय:

  1. खाने पिने की बुरी आदतों से परहेज करे जैसे धूम्रपान और शराब।
  2. खाने में मसालेदार और तेज मिर्च वाली चीजें न खाये।
    3 पेट से जुडी बीमारियों से बचे।
  3. कब्ज़ की समस्या बवासीर का प्रमुख कारण है इसलिए शरीर में कब्ज़ न होने दे।
  4. गर्मियों के मौसम में दोपहर को पानी की टंकी का पानी गरम हो जाता है, ऐसे पानी से गुदा को धोने से बचे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 + 8 =

Related Posts

Tips for Diabetics

Spread the love          Tweet     शुगर के मरीज को एक दिन मे एक ही फल खाना चाहिए। जैसे आज पपीता खाया,,,तो अगले दिन अमरूद खाए। उस से अगले दिन अन्नानास खा ले। फिर

How to Sleep

Spread the love          Tweet     निद्रा कैसे लेनी चाहिए……..*निद्रा शरीर रूपी यन्त्र का स्वाभाविक विश्राम है। दिन में मानसिक एवं शारीरिक कार्य करने से शरीर क्लान्त हो जाता है, निद्रा से उसकी पूर्ति

Some Remedies for T.B. and Asthma 5 November 2020

Spread the love          Tweet     टी.बी. की बीमारी के लिये पहला प्रयोगःघी-मिश्री के साथ बकरी के दूध का सेवन करने से, स्वर्णमालती तथा च्यवनप्राश के सेवन करने से क्षय रोग में लाभ होता