Remedies for Pain in Ribs yani Pasli

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

🌺पसली में दर्द का इलाज और घरेलू नुस्खे
🌹पसली में दर्द क्या होता है ?

फेफड़ों की झिल्ली पर सूजन आने के कारण पसलियों के अन्दर दर्द उत्पन्न होता है उसे ही पसली का दर्द या पसली चलना कहते हैं। यह किसी भी उम्र के लोगों में हो सकता है लेकिन युवा वर्ग में जिम और एक्सरसाइज के चलन के कारण उनमें इस रोग की सम्भावना ज़्यादा रहती है इसलिए भारी सामान उठाते समय अपने शरीर का ध्यान रखें और व्यायाम के दौरान शरीर को झटका लगने से बचाये।

पसली में दर्द के कारण : 🌺
🥀पसलियों में दर्द निम्नलिखित कारणों से हो सकता है:
1🍃. अधिक ठंड लग जाने से।
2🌺. कोई दुर्घटना होने, चोट लगने से।
3🌼. अधिक बोझ ढोने से।
🥀4. वायु कारक आहार खाने से।
🌻. ठंडा तासीर वाले भोज्य पदार्थ खाने से।
6.🌼 फेफड़ों में अधिक सर्दी लग जाने से।

  1. 🌼छाती से कफ के जमने से तथा शरीर के लगातार अस्वस्थ रहने से।

पसली में दर्द के लक्षण – 🌷

🌹✶इस रोग में फेफड़े में दर्द उत्पन्न होता है, जो फेफड़े से होते हुए कंधे तक पहुंचता है।
✶🌼 शरीर में यह दर्द वायु के प्रभाव के कारण शुरू होता है।
🥀✶इस रोग में दर्द की लहर दाएं फेफड़े में होने पर दाएं कंधे में और बाएं फेफड़े में होने पर बाएं कंधे में होती है।
✶🌻दर्द यदि दोनों फेफड़ों में हो तो दर्द दोनों कंधे में एक साथ उत्पन्न होता है।
✶🥀इस रोग में फेफड़े में सूजन, तेज दर्द, सूखी खांसी, सांस लेने में कठिनाई, पेशाब लाल रंग का तथा बुखार के साथ शरीर में कंपकंपी जैसे लक्षण उभरते हैं।
✶🌸इस रोग में सबसे अधिक छाती में दर्द होता है। रोगी के माथे पर पसीना आता रहता है जिससे उसकी बेचैनी बढ़ जाती है।

🌹पसली में दर्द के घरेलू उपचार :
1.💐 कटोरी में दो-अढाई चम्मच देशी घी में लहसुन के पांच दाने छीलकर डालें और गरम करें। इसे भोजन के साथ दोपहर तथा शाम को नियमित लेते रहें।पसलियों का दर्द जाता रहेगा।
2🥀. मालिश भी फायदा करती है। सरसों के तेल में लहसुन गरम करें तेल को गुनगुना हो जाने पर पसलियों पर मालिश करें। यदि इस मालिश के बाद कपड़े की पट्टी बांध लें, तो और जल्दी आराम मिलता है।

3.🌹 कालीमिर्च 4 दाने , लौंग २ दाने , हल्दी 1 ग्राम एवं सेंधा नमक 1 ग्राम | इन सबको अच्छी तरह पीसकर एक गिलास पानी में उबालें और जब पानी आधा गिलास रह जाए तो छान कर पिएं ।दर्द जाता रहेगा।

4🌹. आधा किलो पानी में दो तोला पिसी सोंठ डालकर इतना उबालें कि पानी 250 ग्राम रह जाए। इसे छानकर तीन हिस्सों में बांटकर दिन में तीन बार लें। जल्दी फायदा करेगा।

  1. 🌻पसलियों के दर्द को शांत करने के लिए सांभर के सींग को पानी में घिसकर पसलियों पर लेप करें। दर्द गायब हो जाएगा।

🌹6. हींग को पानी से घोलकर पसलियों पर लेप करने से दर्द समाप्त हो जाता है।

  1. 🌸पसलियों को हवा लगने से बचाएं। अंडरक्लॉथ ठीक प्रकार व मोटे पहनने से दर्द कम होता है।

🥀8. पुदीना की पांच पत्तियां तथा पांच कालीमिर्च डालकर पानी में उबालें अब इस छानकर पिलें । दर्द समाप्त हो जाता है।
🥀9. तारपीन तेल में थोड़ा सा शुद्ध कपूर मिलाकर थोड़ी-थोड़ी देर बाद इस तेल से पसलियों पर हल्के हाथों से मालिश करें दर्द गायब हो जाएगा।

10.🥀लहसुन की 3-4 कलीयों को हल्का भूनकर शुद्ध शहद के साथ रोगी को खिलाएं इससे दर्द समाप्त हो जाता है।

पसली में दर्द होने पर क्या करे :🌺

ऊपर बताए उपचारों में से कोई एक या दो अपनाकर अपना रोग दूर कर सकते हैं। जिसे अपनाएं, भली प्रकार अपनाएं तथा तब तक अपनाएं जब तक रोग से पूरी तरह छुटकारा नहीं मिल जाता। इलाज बीच में न छोड़े। किसी भी प्रकार शारीरिक दर्द से परेशान होने पर:

✶ 🍃जो-जो मालिश ऊपर बताई गई है, उन्हें करें।
✶ 🍃ठंडी चीजों का सेवन न करें।
✶. गरम चीजों का सेवन शारीरिक दर्दो को कम कर देता है, इसमें अखरोट,गुड़, नारियल की गिरी आदि आते हैं।
✶ 🍃बाजरे तथा ज्वार की रोटी भी सभी दर्दी से कम करती है।
✶ 🍃अच्छी पौष्टिक खुराक दर्दो को खत्म करता है।
✶🌼 वायु या वात उत्पन्न करने वाले आहार दर्द बढ़ाते हैं।
✶🍃ज़रूरी व्यायाम, तेल मालिश तथा योगासन भी अवश्य करें।
✶ 🍂चाहे कुछ भी हो, आलस्य को अपने पास न फटकने दें। जितना चुस्त दुरुस्त रहने का प्रयत्न करेगे, रोग उतना ही ज्यादा किनारा करेगा। आप चैन से जी सकेंगे। जब तक शारीरिक दर्द रहेगा, चैन से नहीं रहा जा सकता।

सावधानियाँ 🌹:

🌺1- मांसाहार और शराब का सेवन न करें, साथ ही ज़्यादा तेल मसाले का खाना खाने से भी परहेज करें।
पौष्टिक आहार लेने से सूजन में राहत मिलने लगती है।
2🌺-भारी वजन उठाने से बचें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 + eight =

Related Posts

Health tips for Ladies

Spread the love          Tweet     महिलाओ के लिए विशेष यदि बार-बार अनावश्यक डाक्टर के पास दौडने से बचना चाहती है तो अवश्य पढ़ें 〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰 यदि आप कमर दर्द ,रक्त विकार ,स्नायु विकार ,असमय

5 Types of Yagas

Spread the love          Tweet     वेदानुसार पांच प्रकार के यज्ञ〰️ 〰️ 🔸 〰️ 🔸 〰️ 🔸 〰️ 〰️ ब्रह्मयज्ञ, 2. देवयज्ञ, 3. पितृयज्ञ, 4. वैश्वदेव यज्ञ, 5. अतिथि यज्ञ।उक्त पांच यज्ञों को पुराणों

Benefits of Sweetpotato

Spread the love   0      Tweet     *शकरकंद शकरकंद में आयरन, फोलेट, कॉपर, मैगनीशियम, विटामिन्‍स आदि होते हैं, जिससे इम्‍यून सिस्‍टम मजबूत बनता है. इसको खाने से त्‍वचा में चमक आती है और चेहरे पर