Sciatica, Constipation and Knee Pain

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

🌹सायटिका का इलाज
▫▫▫▫▫▫
🌹लहसुन की 10 कलियों को 100 ग्राम पानी एवं 100 ग्राम दूध में मिलाकर पकायें। पानी जल जाने पर लहसुन खाकर दूध पीने से सायटिका में लाभ होता है।
▫▫▫▫▫▫
🌹निर्गुण्डी के 40 ग्राम हरे पत्ते अथवा 15 ग्राम सूखे पत्ते एवं 5 ग्राम सोंठ को थोड़ा कूटकर 350 ग्राम पानी में उबालें। 60-70 ग्राम पानी शेष रहने पर छानकर सुबह-शाम पीने से सायटिका में लाभ होता है।

🌼🌼🌼🙏🌼🌼🌼

🌱🙏🌱

🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
: कब्ज constipation दूर करने के लिए 16 चमत्कारिक उपाय।
कहते है के व्यक्ति की सब बीमारियो की जड़ पेट से शुरू होती हैं, और पेट के रोग कब्ज से शुरू होते हैं। आज कल हर 100 में से 90 व्यक्ति कब्ज से पीड़ित हैं, यही अधिकतम बीमारियो की जड़ हैं। अगर हम सिर्फ कब्ज को ही सही कर दे तो अनेका-अनेक रोग हमारे चुटकी बजाते ही सही हो जाएंगे।

कब्ज वाले मरीज विशेष ध्यान देवे, वो अपनी पूरी दिन चर्या में कम से कम ३ से ४ लीटर पानी अवश्य ही पिए। भोजन में पानी और तरल पदार्थो की कमी से अक्सर ये समस्या उभर कर आती हैं। सर्वप्रथम आप अपनी दिन चर्या में पानी और फलो के रस का सेवन करना शुरू करे। और ध्यान रहे भोजन के साथ पानी नहीं पीना। भोजन के एक घंटे पहले या बाद में ही पानी पिए। भोजन के दौरान आप छाछ पी सकते हैं।

तो आइये हम जाने इस कब्ज रुपी राक्षस को ख़त्म करने के सरल और असरदार उपाय।

  1. दो चुटकी आजवाइन का चूर्ण मट्ठे में मिलाकर घूंट-घूंट कर पीने से दो तीन-दिन में ही कब्ज ठीक हो जाएगी।
  2. सवेरे उठकर खाली पेट दो सेब खाने से कब्ज नही रहेगी।
  3. बारीक़ कपड़े पर पुल्टिस की तरह गीली पट्टी लपेट कर रात भर अपने पेडू पर रखिए। अवश्य लाभ होगा।
  4. रात को सोने से पहले एक चम्मच शहद एक गिलास ताजे पानी में मिलाकर पीजिए, कब्ज नही होगा।
  5. प्रात; काल बिना कुछ खाए ५ ग्राम दाने मुनक्का खाने से कब्ज दुर होता है।
  6. रात को नीबू काटकर रख दे। सवेरे उसकी शिंकजी बना कर पी ले। इसे पीने से कब्ज दूर होगा।
  7. दो बड़े पीले पके संतरों का रस प्रात; नाश्ते से भी पहले पिएं। एक हफ्ते में पुराना से पुराना कब्ज दूर हो जाएगा।
  8. ली हरड़ को घी में भून कर फुला ले। फिर उसमे उतना ही काला नमक मिलाकर पीस कर चूर्ण बना ले। इस चूर्ण को रात को सोते समय गुनगुने पानी के साथ लगभग एक छोटा चम्मच ले। बस, सुबह उठने के साथ ही खुलकर दस्त आयेगी। ऐसा हफ्ते में एक या दो बार करते रहे। कब्ज की शिकायत सदा की लिए दूर हो जाएगी।
  9. बीट की पंत्तियो को टमाटर या सलाद के साथ मिलाकर खाने से कब्ज की शिकायत दूर होती है।
  10. यदि आप बिना छाने आटे की मोटी रोटी चबा चबाकर खाएं, तो कभी कब्ज नही होगा।
  11. त्रिफला २० ग्राम, रात को २५० ग्राम पानी में भिगो कर रखे, सुबह शौच क्रिया करने के पूर्व त्रिफला का निथरा हुआ जल पिएँ, कब्ज दूर हो जाएगा।
  12. कटी हुई हरड रात को फांक कर, ऊपर से २५० मि. ली. गुनगुना पानी पी ले। सुबह उठते ही पेट साफ़ हो जाएगा।
  13. अंजीर 7-8 ले कर के पानी में उबाल कर उसका काढ़ा बना ले। रात को सोते समय यह काढ़ा पिए, तीन-चार दिनों तक लगातार पीने से कब्ज की शिकायत हमेशा के लिए समाप्त हो जाएगी, पर यदि दस्त अधिक आने लगे, तो काढ़ा पीना फौरन बंद कर दे।
  14. गाजर, मूली, बीट, शलगम, टमाटर, पालक की पत्तियां, चोलाई और बीट की पतियों को सलाद में नारियल की गिरी के छोटे टुकड़े मिलाकर भोजन के साथ या उसके बाद खाएं, पुराना से पुराना कब्ज ठीक हो जाता है।
  15. खाली पेट एक गिलास पानी में एक नीबू का रस व एक ग्राम सेंधा नमक मिलाकर कुछ दिन सेवन करे। इससे पुराना से पुराना कब्ज भाग जाता है।
  16. सोने से पहले गुनगुना पानी के साथ ३ ग्राम सौंफ का चूर्ण लेने से कब्ज में फायदा होता है।
    [Knee Pain. >>> घुटनों की चिकनाहट और दर्द की समस्या को सही करें सिर्फ 10 दिन में अब तक का सबसे सफल प्रयोग

आज के बदलते परिवेश में खान-पान में भी कुछ न कुछ बदलाव आरहा है, क्योंकि आज वो पुराने जमाने के बिना मिलावटी शुद्ध खाद्य सामग्री नही रही। यही कारण है कि आज के इस आधुनिक और वैज्ञानिक युग मे भी बीमारियों का अंबार खड़ा है, इसमे से एक है घुटने का दर्द। हमने कई बार अपने बड़े बुजर्गो को घुटनों के दर्द से तडपते हुए देखा है। दिन रात दवाई खाने से भी उन्हें कोई आराम नही मिलता है चलने फिरने में बहुत परेशानी होती है और साथ ही घुटनों को मोड़ने में, उठने – बैठने में भी दिक्कत आती है। कभी कभी उन्हें इतना ज्यादा दर्द होता की वो ठीक ढंग से सो भी नहीं पाते और उनके घुटनों में सुजन तक भी आ जाती है। उम्र के साथ हड्डियों की बीमारी बढती जाती है। आज हम घुटनों के दर्द के ऐसे कारगर उपाय बताएंगे जो बहुत असरकारक है अगर इनको अपना लिया तो बुढ़ापे तक किसी सहारे की जरूरत नही पड़ेगी तो आइये जानते है इन उपायों के बारे में।

घुटनो के दर्द (Knee Pain) के चमत्कारी घरेलू रामबाण उपाय

हरसिंगार एक पौधा है जिसके सफेद रंग के फूल होते है ये फूल रात को खिलकर सुबह गिर जाते है इस पौधे के 6 से 7 पत्तों को सिल बट्टे पर पीसकर इसकी चटनी बना ले और एक गलास पानी में उबाले। उबलते उबलते जब यह आधा रहा जाये तो इसको गुनगुना करके प्रतिदिन खाली पेट पीये। ऐसा करने से आपके सरीर और जोड़ो के दर्द से आपको मुक्ति मिलेगी। इस औषधि के साथ कोई अन्य दवा नहीं लेनी है। यह उपाय सबसे ज्यादा कारगर और सफल है।

कनेर के पत्तों को उबालकर उसको उसके पत्तों की चटनी बना ले और तिल के तेल में मिलाकर घुटनों पर मालिश करे ऐसा करने से आपको दर्द से मुक्ति मिलेगी।

आपके घुटनों में दर्द रहता है तो रोज रात को 2 चम्मच मैथी को एक ग्लास पानी में भिगो कर रख दे। और प्रात: काल खाली पेट मेथी को चबा चबा कर खाने से और मेथी का पानी पीने से आपको कभी भी घुटनो का दर्द नही होगा।

एक ग्लास दूध में 4-5 लहसुन की कलियाँ डाल कर अच्छी तरह से उबाले और गुनगुना पीने से भी घुटनों के दर्द में आराम मिलता है।

हर रोज आधा कच्चा नारियल खाने से बुढ़ापे में भी कभी आपको घुटनों के दर्द का परेशानी नही होगी।

अखरोट प्रतिदिन खाली पेट खाने से आपके घुटने में कभी कष्ट नही होगा।

रोज रात को सोने से पहले एक ग्लास दूध ने हल्दी डाल कर पीने से आपको हड्डियों में दर्द की समस्या से मुक्ति मिलेगी।

एक दाल के दाने के बराबर थोड़ा सा चूना (जो आप पान में लगा कर खाते है) को दही में या पानी में मिला कर पीने से आपको हड्डियों में कभी दर्द नही होगा। चूने के पानी को हमेशा सीधे बैठकर ही पिए इससे आपको जल्दी आराम होगा। यह औषधि सिर्फ 1 महीने पीने से ही शरीर की किसी भी

हड्डी में दर्द हो तो वो जल्दी ठीक हो जाएगा।

सुबह और शाम को भद्र आसन करने से आपको लाभ मिलेगा।

हड्डियों के दर्द से बचने के लिए आप अपने भोजन में 25% फल और सब्जियों को शामिल करेगे तो आपको कभी भी हड्डियों के दर्द का सामना नहीं करना पड़ेगा।

नारियल, सेब, संतरे, मौसमी, केले, नाशपति, तरबूज और खरबूजे आदि फलों का सेवन हर रोज जरुर करे।

गोभी, सोयाबीन, हरी पत्तेदार सब्जियों के साथ खीरे, ककड़ी, गाजर, और मेथी को अवश्य शामिल करे।

दूध और दूध से बनी चीजे भरपूर मात्रा में खाए और कच्चा पनीर भी भोजन में शामिल करे, ऐसा करने से आपके जोड़ों के दर्द में कमी आएगी।

मोटा अनाज, मकई, बाजरा, चोकर वाले आटे की रोटियों का जरुर उपयोग करे। क्योंकि इनमे वो सभी तत्व होता है जो आपकी हड्डियों और जोड़ो के दर्द से मुक्ति दिलाता है।

अगर अत्यधिक सर्दी की वजह से आपके दादा या दादी के घुटनों में बहुत अधिक पीड़ा है तो सरसों के तेल में लहसुन और अजवायन को पकाये और फिर जब यह तेल गुनगुना हो जाये तो

घुटनों पर मालिश करे, उनका दर्द गायब हो जायेगा।

4 thoughts on “Sciatica, Constipation and Knee Pain”

  1. lagu 2020 says:

    Definitely believe that which you said. Your favorite
    reason seemed to be on the web the easiest thing to be aware of.

    I say to you, I certainly get annoyed while people consider worries that they plainly
    do not know about. You managed to hit the nail upon the top as well
    as defined out the whole thing without having side-effects ,
    people can take a signal. Will probably be back to get
    more. Thanks

  2. Nestor says:

    My brother recommended I might like this website.
    He was entirely right. This post actually made my day. You cann’t imagine simply
    how much time I had spent for this information! Thanks!

  3. lagu 2020 says:

    Every weekend i used to visit this site, as i want enjoyment, since
    this this web page conations in fact good funny material too.

  4. lagu says:

    Hello, after reading this remarkable paragraph i am also delighted to
    share my experience here with colleagues.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

2 × five =

Related Posts

Remedies for Heel pain

Spread the love          Tweet     एड़ी दर्द को दूर करने के उपाय एड़ी के दर्द से छुटकारा पाने के लिए पैरों को आराम दें और उनपर ज्यादा वजन न डालें। इस दर्द से

Shiksha

Spread the love          Tweet     🙏🏻 🚩 🌹 👁❗👁 🌹 🚩 🙏🏻 हमें सीखने के लिए सदैव तैयार रहना चाहिये एक संत अपने शिष्य के साथ जंगल में जा रहे थे। ढलान पर

Benefits of Pippali yani Long Pepper

Spread the love          Tweet     पिप्पली क्या है पिप्पली एक जड़ी-बूटी है। आयुर्वेद में पिप्पली की चार प्रजातियों के बारे में बताया गया है, लेकिन व्यवहार में छोटी और बड़ी दो प्रकार की