Some Remedies for Dengue 16 September 2020

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

डेंगू बुखार का इलाज स्वास्थ्य चर्चा का दूसरा एवं अंतिम टॉपिक

🌹डेंगू बुखार का इलाज !🌹

🌹 यह एक ऐसा वायरल रोग है जिसका मेडिकल चिकित्सा पद्धति में कोई इलाज नहीं है परन्तु आयुर्वेद में इसका इलाज है और वो इतना सरल और सस्ता है की उसे कोई भी कर सकता है l तीव्र ज्वर, सर में तेज़ दर्द, आँखों के पीछे दर्द होना, उल्टियाँ लगना, त्वचा का सुखना तथा खून के प्लेटलेट की मात्रा का तेज़ी से कम होना डेंगू के कुछ लक्षण हैं जिनका यदि समय रहते इलाज न किया जाए तो रोगी की मृत्यु भी सकती है l यदि आपके किसी भी जानकार को यह रोग हुआ हो और खून में प्लेटलेट की संख्या कम होती जा रही हो तो ये चार चीज़ें रोगी को दें :

🔹१) अनार जूस २) गेहूं घास रस ३) पपीते के पत्तों का रस ४) गिलोय/अमृता/अमरबेल सत्व

👉अनार जूस तथा गेहूं घास रस नया खून बनाने तथा रोगी की रोग से लड़ने की शक्ति प्रदान करने के लिए है, अनार जूस आसानी से उपलब्ध है यदि गेहूं घास रस ना मिले तो रोगी को सेब का रस भी दिया जा सकता है l

👉पपीते के पेड़ के पत्तों का रस सबसे महत्वपूर्ण है, पपीते का पेड़ आसानी से मिल जाता है उसकी ताज़ी पत्तियों का रस निकाल कर मरीज़ को दिन में २ से ३ बार दें , एक दिन की खुराक के बाद ही प्लेटलेट की संक्या बढ़ने लगेगी l

👉गिलोय बेल की डंडी ले ! डंडी के छोटे टुकड़े करे ! २ गिलास पानी मे उबाले ! जब पानी आधा रह जाये ! ठंडा होने पर रोगी को पिलाये ! गिलोय की बेल का सत्व मरीज़ को दिन में २-३ बार दें, इससे खून में प्लेटलेट की संख्या बढती है, रोग से लड़ने की शक्ति बढती है तथा कई रोगों का नाश होता है l

👉यदि गिलोय की बेल आपको ना मिले तो किसी भी नजदीकी चिकित्सालय में जाकर “गिलोय घनवटी” ले आयें जिसकी एक एक गोली रोगी को दिन में ३ बार दें l यदि बुखार १ दिन से ज्यादा रहे तो खून की जांच अवश्य करवा लें l

👉यदि रोगी बार बार उलटी करे तो सेब के रस में थोडा नीम्बू मिला कर रोगी को दें, उल्टियाँ बंद हो जाएंगी ये रोगी को अंग्रेजी दवाइयां दी जा रही है तब भी यह चीज़ें रोगी की बिना किसी डर के दी जा सकती हैं !

👉रोगी के खान पान का विशेष ध्यान रखें, क्योंकि बिना खान पान कोई दवाई असर नहीं करती ! ऊपर बताए गए इलाजों मे सबसे जल्दी पपीते के पेड़ के पत्ते कम करते हैं फिर गिलोय !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

three × two =

Related Posts

Ayurvedic tips 3 August 2020

Spread the love          Tweet     🌹खाना हजम नहीं होता तो – 🌹कोई आदमी बीमार है और खा–पी नहीं सकता, digestion power zero हो गया तो कमरा बंद करके गो-चन्दन अगरबत्ती, हवन धुप करो और उसमे

Ashok tree uses and details

Spread the love          Tweet     अशोक सामान्य परिचय : ऐसा कहा जाता है कि जिस पेड़ के नीचे बैठने से शोक नहीं होता, उसे अशोक कहते हैं, अर्थात् जो स्त्रियों के सारे शोकों

Darshan, Adhyatm and Vigyan behind Shree Ram Katha

Spread the love          Tweet     राम कथा का ‘दर्शन,अध्यात्म,और ‘विज्ञानं ! अयोध्या रामकथा का प्रारम्भ और समापन स्थल है। अयोध्या का अर्थ और निहितार्थ : – अयोध्या (अ + युद्ध), जहाँ युद्ध और