Story of Mata Sumitra and Urmila

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नारीशक्ति माता सुमित्रा और लक्ष्मण जी पत्नी उर्मिला के बारे मे जानकारी!

मित्रों, बात उस समय की है जब भगवान् श्री रामजी वनवास को जा रहे है, तब लक्ष्मणजी भी जाने को तैयार हुए, तब प्रभु रामजी ने लक्ष्मणजी को माता सुमित्राजी से आज्ञा लेने के लिये भेजते है, उस समय माता के भावों को दर्शाने की कोशिश करूँगा, साथ ही उर्मिलाजी जैसे नारी शक्ति के शौर्य के दर्शन भी कराऊँगा, आप सभी इस पोस्ट को ध्यान से पूरा पढ़े, और भारतीय नारी शक्ति की महानता के दर्शन करें।

लक्ष्मणजी माँ से वनवास में भगवान् के साथ जाने की आज्ञा मांगते है तब माता सुमीत्राजी ने कहा, लखन बेटा! मैं तो तेरी धरोहर की माँ हूँ, केवल गर्भ धारण करने के लिये भगवान् ने मुझे माँ के लिये निमित्त बनाया है, “तात तुम्हारी मातु बैदेही, पिता राम सब भाँति सनेही” सुमित्राजी ने असली माँ का दर्शन करा दिया।

अयोध्या कहाँ हैं? अयोध्या वहाँ है जहाँ रामजी है, और सुनो लखन “जौं पै सीय राम बन जाहीं अवध तुम्हार काज कछु नाहीं” अयोध्या में तुम्हारा कोई काम नहीं है, तुम्हारा जन्म ही रामजी की सेवा के लिये हुआ है और शायद तुमको यह भ्रम होगा कि भगवान् माँ कैकयी के कारण से वन को जा रहे हैं, इस भूल में मत रहना, लक्ष्मणजी ने पूछा फिर जा क्यो रहे हैं, माँ क्या बोली?

तुम्हरेहिं भाग राम बन जाहीं ।
दूसर हेतु तात कछु नाहीं ।।

दूसरा कोई कारण नहीं है, आश्चर्य से लक्ष्मणजी ने कहा, माँ मेरे कारण क्यो वन जा रहे हैं? माँ ने कहा, तू जानता नहीं है अपने को, मैं तुझे जानतीं हूँ, तू शेषनाग का अवतार है, धरती तेरे शीश पर है और धरती पर पाप का भार इतना बढ गया है कि तू उसे सम्भाल नहीं पा रहा है, इसलिये राम तेरे सर के भार को कम कर रहे हैं “दूसर हेतु तात कछु नाहीं” और कोई दूसरा कोई कारण नहीं है।

जब भगवान् केवल तेरे कारण जा रहे हैं तो तुझे मेरे दूध की सौगंध है कि चौदह वर्ष की सेवा में स्वपन में भी तेरे मन में कोई विकार नहीं आना चाहियें, लक्ष्मणजी ने कहा माँ अगर ऐसी बात है तो सुनो जब आप स्वप्न की शर्त दे रही हो तो मै चौदह वर्ष तक सोऊँगा ही नहीं और जब सोऊँगा ही नहीं तो कोई विकार ही नहीं आयेगा।

सज्जनों! ध्यान दिजिये जब जगत का अद्वितीय भाई लक्ष्मणजी जैसा है जो भैया और भाभी की सेवा के लिये चौदह वर्ष जागरण का संकल्प लें रहा है, अगर छोटा भाई बडे भाई की सेवा के लिए चौदह वर्ष का संकल्प लेता है तो बडा भाई पिता माना जाता है, उन्हें भी पिता का भाव चाहिये, जैसे पिता अपने पुत्र की चिंता रखता है, ऐसे ही बडा भाई अपने छोटे भाई की पुत्रवत चिंता करें, लेकिन भगवान् श्री रामजी तो जगत के पिता हैं।

ऐसी सुमित्राजी जैसी माताओं के कारण ऐसे भक्त पुत्र पैदा हुयें, सेवक पैदा हुए, महापुरूष पैदा हुए, कल्पना कीजिये “अवध तुम्हार काज कछु नाहीं” जाओ भगवान् की सेवा में, यहाँ तुम्हारा कोई काम नहीं है और अब हम अपने ऊपर विचार करे, अनुभव क्या कहता है? लडका अगर शराबी हो जाए परिवार में चल सकता है, लडका अगर दुराचारी हो जाए तो भी चलेगा, जुआरी हो जाये तो भी चलेगा, बुरे से बुरा बन जाये तो भी चलेगा।

लेकिन लडका साधु हो जाये, संन्यासी हो जाये, समाजसेवक बन जाये, तो नहीं चलेगा, अपना-अपना ह्रदय टटोलो कैसा लगता है? सारे रिश्तेदारों को इकट्ठा कर लेते हैं कि भैया इसे समझाओ, सज्जनों! हम चाहते तो है कि इस देश में महापुरुष पैदा हो, हम चाहते तो है कि राणा और शिवाजी इस देश में बार-बार जन्म लें लेकिन मैरे घर में नहीं पडौसी के घर में।

क्या इससे धर्म बच सकता है? क्या इससे देश बच सकता है? कितनी माँओं ने अपने दुधमुंहे बच्चों को इस देश की रक्षा के लिए दुश्मनों के बंदुक की गोलियाँ खाकर मरते हुयें अपनी आखों के सामने देखा है, आप कल्पना कर सकते हो कि माँ के ऊपर क्या बीती होगी? तेरह साल का बालक माँ के सामने सिर कटाता है, माँ ने आँखें बंद कर लीं, कोई बात नहीं जीवन तो आना और जाना है, देह आती है और जाती है, धर्म की रक्षा होनी चाहिये।

जो धर्म की रक्षा करता है, धर्म उनकी रक्षा करता है, “धर्मो रक्षति रक्षितः” इस देश की रक्षा के लिए कितनी माताओं की गोद सूनी हुई, कितनी माताओं के सुहाग मिटे, कितनों की माथे की बिंदी व सिन्दूर मिट गयें, कितनो के घर के दीपक बुझे, कितने बालक अनाथ हुये, कितनो की राखी व दूज के त्यौहार मिटे, ये देश, धर्म, संस्कृति तब बची है, ये नेताओं के नारो से नहीं बची, ये माताओं के बलिदान से बची, इस देश की माताओं ने बलिदान किया।

सज्जनों! हमने संतो के श्रीमुख से सुना है जब लक्ष्मणजी सुमित्रामाताजी के भवन से बाहर आ रहे हैं और रास्ते में सोचते आ रहे हैं कि उर्मिला से कैसे मिलुं इस चिन्ता में डूबे थे कि उर्मिला को बोल कर न गये तो वह रो-रो कर प्राण त्याग देगी, और बोल कर अनुमति लेकर जाएंगे तो शायद जाने भी न दे और मेरे साथ चलने की जिद्द करेगी, रोयेंगी और कहेंगी कि जब जानकीजी अपने पति के साथ जा सकती है तो मैं क्यों नहीं जा सकती?

लक्ष्मणजी स्वय धर्म है लेकिन आज धर्म ही द्वंन्द में फँस गया, उर्मिलाजी को साथ लेकर जाया नहीं जा सकता और बिना बतायें जाये तो जाये कैसे? रोती हुई पत्नी को छोड कर जा भी तो नहीं सकते, दोस्तों! नारी के आँसू को ठोकर मारना किसी पुरुष के बस की बात नहीं, पत्थर दिल ह्रदय, पत्थर ह्रदय पुरूष भी बडे से बडे पहाड को ठुकरा सकता है लेकिन रोती हुई पत्नी को ठुकरा कर चले जाना किसी पुरुष के बस की बात नहीं है।

लक्ष्मणजी चिंता में डूबे हैं अगर रोई तो उन्हें छोडा नहीं जा सकता और साथ लेकर जाया नहीं जा सकता करे तो करे क्या? इस चिन्ता में डूबे थे कि उर्मिलाजी का भवन आ गया, इधर उर्मिलाजी को घटना की पहले ही जानकारी हो चुकी है और इतने आनन्द में डूबी है कि मैरे प्रभु, मैरे पति, मैरे सुहाग का इतना बडा सौभाग्य कि उन्हें प्रभु की चरणों की सेवा का अवसर मिला है।

पति की सोच में डूबी श्रंगार किए बैठी है, वो वेष धारण किया जो विवाह के समय किया था, कंचन का थाल सजाया, आरती का दीप सजाकर प्रतीक्षा करती है, विश्वास है कि आयेंगे अवश्य, बिना मिले तो जा नहीं सकते? भय में डूबे लक्ष्मणजी आज कांप रहे है, सज्जनों! आप तो जानते ही है कि लक्ष्मणजी शेषनाग के अवतार हैं और नाग को काल भी कहते हैं।

आप कल्पना कीजिये, इस देश की माताओं के सामने काल हमेशा कांपता है, संकोच में डूबे लक्ष्मणजी ने धीरे से कुण्डी खटखटाई, देवी द्वार खोलो, जैसे ही उर्मिलाजी ने द्वार खोला तो लक्ष्मणजी ने आँखें बंद कर लीं, निगाह से निगाह मिलाने का साहस नहीं, उनको भय लगता है, आँसू आ गयें, उर्मिलाजी समझ गई कि मैरे कारण मेरे पतिदेव असमंजस में आ गये हैं।

उर्मिलाजी ने दोनों हाथों से कंधा पकड लिया और कहा आर्यपुत्र घबराओ नहीं, धीरज धरो, मैं सब जानती हूंँ कि आप भगवान् के साथ वनवास जा रहे हैं, मैं आपको बिल्कुल नहीं रोकूँगी बल्कि मुझे खुशी है कि आपको भ्राता और भाभी की सेवा करने का मौका मिल रहा है, आप निश्चिंत होकर जाइये, मैं माँ सुमित्राजी का पूरा ध्यान रखूंगी।

उर्मिलाजी का चरित्र प्रत्येक भारतीय नारी का चरित्र है, भारत की प्रत्येक नारी में उर्मिला जैसा दिव्य चरित्र है लेकिन फर्क है तो केवल जीने का, एक और प्रसंग की चर्चा करते हैं, सज्जनों! जब लक्ष्मणजी को मेघनाथ की शक्ति से बेसुध हो गये तब वैधजी सुमंतजी की सलाह से संजीवनी लेने पहुंचे।

लेकिन संजीवनी बूटी की परख न होने से पूरा पर्वत ही उठाकर जब अयोध्या के ऊपर से जा रहे थे तब भरतजी ने किसी राक्षस होने की आशंका से हनुमानजी पर बाण चला दिया, बाण हनुमानजी को लगा और हनुमानजी घायल अवस्था में “जय श्री राम” के उद्घोष के साथ पृथ्वी पर आ गये, भरतजी को रामजी के नाम का उद्घोष से भरतजी हनुमानजी के पास पहुंचे और रामजी के नाम का उल्लेख करते हुए कहाँ कि आप कौन है? और रामजी से आपका क्या संबंध है?

तब हनुमानजी ने खुद को रामजी का सेवक बताते हुए लक्ष्मणजी की स्थिति का वर्णन किया, तब तक सभी माताओं के साथ उर्मिलाजी भी हनुमानजी से मिलने पहुंची, हनुमानजी से लक्ष्मणजी के घायल होने की अवस्था का वर्णन किया, तब उर्मिलाजी ने हनुमानजी से कहा कि आपको चिन्ता करने की आवश्यकता नहीं है, मैरे पति को कुछ नहीं होगा? हनुमानजी ने कहा कि आप को कैसे मालूम?

उर्मिलाजी बोली, मेरा दीपक मुझे बता रहा है, दीपक जल रहा है तो इसका मतलब कि मेरे पति जीवित हैं, और सुनो मैं तो लंका नहीं गयी थी, आप तो लंका से आए हो? यह बताओ इस समय मेरे पति कहाँ हैं, हनुमानजी बोले भगवान् की गोद में है, उर्मिलाजी ने कहा भैया! अगर मेरे पति भोग की गोद में होते तो काल उनको मार देता पर जो भगवान की गोद में लेटा है उसको काल छू भी नहीं सकता है।

हनुमानजी आपको मालूम होना चाहिये कि जो भगवान् की गोद में है वे हमेशा चिरंजीवी रहते है, मेरे पति भगवान् की गोद में लेटे हैं और मैं भगवान के करूणामयी स्वभाव से परिचित हूँ, मुझे यह मालूम है और भगवान को यह जानकारी है कि लखन जागने का चौदह वर्ष का संकल्प माँ से लेकर आया है जो सोयेगा नहीं और प्रभु का स्वभाव बहुत ही कोमल हैं।

अति कोमल रघुवीर सुभाऊ।
जधपि अखिल लोक कर राऊ।।

प्रभु को लगता है मेरा छोटा भाई लखन दिनभर इतने बडे बडे राक्षसों से लडता है, थककर चूर हो जाता है और फिर सन्ध्या समय माँ के संकल्प को याद करता है और सोता नहीं, इसको विश्राम कैसे दिलाये, भगवान् ने मेघनाथ के बाण के बहाने से पतिदेव को अपने गोद में विश्राम के लिए लिटाया है, जो रामजी की चरण में रहता है वह विश्राम के लिए रहता है, वह कभी मरण की चरण में नहीं जाता।

जो आनन्द सिंधु सुख रासी ।
सीकर तें त्रैलोक सुपासी ।।
सो सुखधाम राम अस नामा ।
अखिल लोक दायक विश्रामा ।।

जो भगवान श्रीराम की गोद में होगा वो विश्राम में होगा, आराम में होगा, सज्जनों! हमने संतो के श्रीमुख से सुना है कि जब लक्ष्मणजी ने चौदह वर्ष जागरण का संकल्प लें लिया, तब हमने सुना, नींद लक्ष्मणजी के पास आयी और नींद ने लक्ष्मणजी से कहा कि आज तक हमको कोई नहीं जीत पाया और आज आपने हमको जीत लिया है, हमसे कोई वरदान मांगिये।

तो लक्ष्मणजी ने कहा मुझे तो कोई आवश्यकता नहीं है मगर तुम उर्मिलाजी के पास चली जाओ, नींद उर्मिलाजी के पास आई और उर्मिलाजी से कहा आप हमसे कोई वरदान मांगिए, पूछा आपको किसने भेजा है तो बोली आपके पतिदेव ने भेजा है, बोली उन्होंने हमें जीत लिया है हम उन्हें वरदान देना चाहती थीं तो उन्होंने कहा जाओ, उर्मिलाजी के पास अतः आप कोई मांगो वरदान मांगो।

उर्मिलाजी ने कहा अगर आप वरदान देना चाहती हो तो एक वरदान दो कि चौदह वर्ष जब तक मेरे पति भगवान् के चरणों की सेवा में लगे हैं उनको मेरी याद न आयें, पत्नी कहती हैं परमात्मा की सेवा में उनको भोग की याद न आयें, उनको काम की याद न आयें, जो रघुवर की सेवा में बैठे हैं उनको घर की याद न आयें, धन्य हैं भारत की भूमि जहाँ उर्मिलाजी जैसी वीरांगनाओं ने जन्म लिया।

शिवाजी महाराज ऐसे ही पैदा नहीं हुयें, शिवाजी का निर्माण जीजाबाई माँ के द्वारा हुआ, जिस समय जीजाबाई दूध पिलाती थी और दूध पिलाती-पिलाती थपकी देती जाती थीं और भगवान् राम और हनुमानजी की कथायें सुनाती थीं, सज्जनों! भगवान् की कथाओं को सुनकर धर्म की स्थापना हुई है, धर्म संस्थापनाथारय हिन्दू पद पादशाही की स्थापना शिवाजी कर पायें, इतना बडा औरंगजेब का साम्राज्य सारे भारत में फैलने वाला साम्राज्य महाराष्ट्र में जाकर रूक गया।

आजु मोहि रघुबर की सुधि आई।
सीय बिना मैरी सूनी रसोई।।
लखन बिना ठकुराई।
आजु मोहि रघुबर की सुधि आई।।

हमारे यहाँ ऐसी बूढी मातायें हुई है जिनको कुछ नहीं आता था, वे प्रातःकालीन चक्की (चाकी) पीसा करती थीं तो बालक उनकी गोद में लेटा होता था, चाकी पीसते-पीसते वीर रस के गीत गाया करती थीं, लेकिन आज स्थिति बिल्कुल विपरीत है, न प्रात काल की वह चक्की है न वीर रस की गाथायें गाती ऐसी मातायें, मेरी समस्त भारत की बहनों से गुजारिश है कि आने वाली पीढ़ी को अपने भारतीय संस्कृति से रूबरू करवायें, माँ बहनों को नमन् करते हुए आज की इस प्रस्तुति को यही विराम देता हूंँ।

                      

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4 × three =

Related Posts

Shree Ram Raja Temple Orcha

Spread the love          Tweet     दुनिया का एकलौता मंदिर, जहां राजा राम को दिन में पांच बार दिया जाता है गार्ड ऑफ ऑनर!!!!! देश में राजा राम चंद्र का एक ऐसा मंदिर है

Shiv Temple Karnataka

Spread the love          Tweet     शिवगंगागंगाधरेश्वरमंदिरतुमुकूरुकर्नाटक एक मंदिर जो विज्ञान के लिए 1600 सालो से आश्चर्यजनक पहेली बना हुआ है।1600 वर्षों से इस मंदिर में हो रहा है चमत्कार, शिव के अभिषेक के

Details of Daan yani Charity

Spread the love          Tweet     दान के विषय मे महत्त्वपूर्ण जानकारी〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️दान एक ऐसा कर्म है, जो इस धरा पर सारे धर्म के लोग मानते है. विविध धर्मावलम्बी अपने अपने धर्म और मत अनुसार