Phone

+91-9839760662

Email

info@religionfactsandscience.com

Opening Hours

Mon - Fri: 7AM - 7PM

सफ़ेद पेठा

सौ से भी अधिक रोग इसके सेवन से ठीक होते है । लेकिन याद रहे की हर चीज़ के नुक्सान भी होते है । अभी इनके फायदों के बारे में पड़ते है ।

१. अमल्पित यानी एसिडिटी के लिए – पेठे का रोज़ सेवन करने से शरीर के अंदर का अमल बहार निकल जाता है । भोजन के बाद २ डाली पेठा खाने से अमल्पित ठीक हो जाता है ।

२. बवासीर- पेठा खाने से बवासीर और कब्ज़ के रोग ठीक हो जाते है ।

३. पथरी – सफ़ेद पेठे के रास में हींग और जवाखार मिलाकर रोगी को पिलाने से पथरी का दर्द ठीक हो जाता है ।

४. सूजन और जलन – पेठे का रस पीने से पेशाब का जलन दूर होता है ।

५. साइटिका – सफ़ेद पेठे का रस पीने से साइटिका में आराम आता है ।

६. उन्माद (पागलपन) – पागलपन के रोग में जब रोगी की आँखें लाल और नाड़ी की गति तेज़ हो जाये तोह रोगी को पेठे का १ गिलास रस पिलाने से रोगी शांत हो जाता है ।

७. शराब का नशा उतारने के लिए – सफ़ेद पेठे के रस में गुड़ मिलाकर पीने से शराब का नशा उतर जाता है ।

८. खांसी – सफ़ेद पेठे के छोटे छोटे टुकड़े को उबालकर उसका लगभग २० मिललीलेटरे तक रस निकाल ले और उसमें २५ ग्राम शर्करा और २५ ग्राम घी तथा उबाले हुए सफ़ेद पेठे के ४० ग्राम टुकड़े और अडूसा का रस ५० मिललीलेटरे आदि को िक्तकर धीमी आग पर पकाने के लिए रखे । गाढ़ा होने पर उसमें १० ग्राम हर्र , १० ग्राम आमला , १० ग्राम भोरिंग मूल , १५० ग्राम पीपर का चूर्ण और ३०० ग्राम शहद डालकर पकाकर तैयार कर ले और उससे चीनी मिटटी या कांच के बर्तन में भरकर रख ले । इस मिश्रण का रोज़ाना सेवन करने से खांसी, बुखार, हिचकी, दिल की बिमारी, अमल्पित और सर्दी खांसी – ज़ुकाम आदि सब रोग दूर हो जायेंगे ।

९. वज़न घटने के लिए – अगर आप मोटापे से परेशान है रोज़ खली पेट पेठे के रस का सेवन करना शुरू कीजिये, आपका वज़न घटने लगेगा और भूक पे नियंत्रण भी रहेगा ।

१०. हड्डी और कैल्शियम की कमी – अगर हदी मज़बूत न हो और शरीर में कैल्शियम की कमी हो, रोज़ाना पेठा खाये या रस का सेवन कीजिये, कैल्शियम की कमी पूरी होने लगेगी ।

कुछ सावधानी पेठे के सेवन के लिए ज़रूर पढ़े –

१. मोटे लोगो को इसका सेवन काम मात्रा में काम अवधि के लिए करना चाहिए ।

२. यह कफ बढ़ता है इसलिए सर्दी में इसका उपयोग नहीं करना चाहिए ।

३. यदि यह मिठाई के रूप में है तोह अपच के दौरान यह आदर्श नहीं है ।

    

Recommended Articles

Leave A Comment