Nazar Dosh remedies

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

नज़र किसी को कही भी लग सकती है इंसान को ,घर को, दुकान को, बच्चो को कहने का मतलब किसी को भी नज़र लग सकती है ।

यहा पर कुछ प्रचीन टोटके दे रहा हु जिस से साधारण नज़र या नई नई नज़र जल्दी उत्तर जाती है । अगर नज़र बहुत पुरानी है तो समय लेगी आपको बार बार टोटके करने पड़ेंगे । अगर आप के नज़र उतारने से सही हो जाता है पर बार बार नज़र लगती रहती है तो किसी अच्छे जानकार से रक्षा कवच बना कर प्रयोग करे ।

नज़र से बचने के कुछ सरल ओर प्रचीन टोटके :-

1 . यदि किसी बच्चे नजर लग जाती है तो वह अचानक रोना प्रारंभ कर देता है और खाना अथवा दूध पीना छोड़ देता है। ऐसे में दो सूखी लाल मिर्च, थोड़ा सेंधा नमक और कुछ सरसों के दाने लें। इसके बाद बच्चे के ऊपर से नीचे की ओर तीन बार घुमाएं। इसके बाद ये सब जला दें। जलने पर जब धुआं उठने लगता है तब थोड़ी ही देर में नजर का बुरा असर समाप्त हो जाता है।

2.एक रुई की बाती लें और उसे सरसों के तेल में डुबो दें तत्पश्चात उस बाती को बच्चे के ऊपर से तीन बार उतारें और फिर बिना टोके उसे जला दें। जब वो बाती पूर्ण रूप से जल जाएगी तब बच्चे पर से बुरी नजर का असर भी समाप्त हो जाएगा।

  1. यदि आपके व्यवसाय को नजर लग जाती है तो शनिवार के दिन एक हरे नींबू को अपने ऑफिस की चारों दीवारों से स्पर्श कराएं और तत्पश्चात उस नींबू के चार टुकड़े कर चारों दिशाओं में फेंक दें। इससे आपके व्यापार में लगी बुरी नजर जल्द ही उतर जाएगी।
  2. यदि आपके व्यापार को नजर लग जाती है तो आप लोहे की चार कीलें लेकर अपने व्यवसाय स्थल के चारों कोनों में ठोंक दें ऐसा करने से आपके व्यापार में लगी बुरी नजर का असर समाप्त हो जाता है।
  3. यदि आपके घर को किसी की बुरी नजर लग गई है तो शुक्रवार के दिन अशोक के पत्तों का बंधन वार बनाकर घर के मुख्य द्वार पर टांग दें। ऐसा करने से घर में सकारात्मक ऊर्जाओं का संचारण होता है, तथा बुरी नजर का दोष समाप्त हो जाता है।
  4. शनिवार के दिन काले घोड़े की नाल को सरसों के तेल में भिगोकर शनिदेव के मंत्रों के उच्चारण से उसका पूजन करें और तत्पश्चात घर के मुख्य द्वार पर टांग दें इससे आपके घर को बुरी नजर नहीं लगेगी।
  5. बच्चे बड़े कोमल होते हैं इसलिए उनकी नजर भी कोमल और मीठी चीजों से ही उतारी जाती है। पानी, दूध, फूल या शकर से बच्चों की नजर ऊतारना सही होता है। भगवान के मंदिर में रखे पानी के कलश से 7 बार उल्टे क्रम से नजर उतारें और किसी भी पौधे में वह पानी चढ़ा दें। इसी तरह भगवान पर चढ़े फूल से भी बच्चे की नज़र उतारी जाती है। शकर से नजर उतारने के लिए आप दोनों मुट्ठी में शकर भर लें और बच्चे के सिर से दोनों हाथ अपनी अपनी दिशा में घुमाएं.. . 11 बार ऐसा कर के शकर भरी मुट्ठियां को वॉश बेसिन में तेज धार की नल में गला दें… नजर भी बह जाएगी।
  6. नमक, राई, राल, लहसुन, प्याज के सूखे छिलके व सूखी मिर्च अंगारे पर डालकर उस आग को रोगी के ऊपर सात बार घुमाने से बुरी नजर का दोष मिटता है।
  7. शनिवार के दिन हनुमान मंदिर में जाकर प्रेमपूर्वक हनुमान जी की आराधना कर उनके कंधे पर से सिंदूर लाकर नजर लगे हुए व्यक्ति के माथे पर लगाने से बुरी नजर का प्रभाव कम होता है।
  8. खाने के समय भी किसी व्यक्ति को नजर लग जाती है। ऐसे समय इमली की तीन छोटी डालियों को लेकर आग में जलाकर नजर लगे व्यक्ति के माथे पर से सात बार घुमाकर पानी में बुझा देते हैं और उस पानी को रोगी को पिलाने से नजर दोष दूर होता है।
  9. कई बार हम देखते हैं, भोजन में नजर लग जाती है। भोजन स्वाद नही बनता तब तैयार भोजन में से थोड़ा-थोड़ा एक पत्ते पर लेकर उस पर गुलाब छिड़ककर रास्ते में रख दे। फिर बाद में सभी खाना खाएँ। नजर उतर जाएगी।
  10. नजर लगे व्यक्ति को पान में गुलाब की सात पंखुड़ियाँ रखकर खिलाए। नजर लगा हुआ व्यक्ति इष्ट देव का नाम लेकर पान खाए। बुरी नजर का प्रभाव दूर हो जाएगा।
  11. लाल मिर्च, अजवाइन और पीली सरसों को मिट्‍टी के एक छोटे बर्तन में आग लेकर जलाएँ। ‍फिर उसकी धूप नजर लगे बच्चे को दें। किसी प्रकार की नजर हो ठीक हो जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

five × 2 =

Related Posts

Astrology Tips

Spread the love          Tweet      लग्नानुसार भाग्योदय वर्ष कुंडली में बारह भाव होते हैं और ये 12 राशियों (मेष, वृष, मिथुन, कर्क, सिंह, कन्या, तुला, वृश्चिक, धनु, मकर, कुंभ और मीन) का

Mann ka Bojh

Spread the love          Tweet     मन का बोझ 🌝🌛😴 एक बार महात्मा बुद्ध ने अपने शिष्यों से अनुरोध किया कि वे कल से प्रवचन में आते समय अपने साथ एक थैली🎒 में बडे़

Nakshatras

Spread the love          Tweet     नक्षत्र विवेचन भारतीय पंचांग तथा ज्योतिष में नक्षत्रों (अंग्रेजी में Constellations) को अत्यधिक महत्व दिया गया है। परंपरानुसार ‘न क्षरतीति नक्षत्राणि’ अर्थात् जिनका क्षरण नहीं होता, वे ‘नक्षत्र’