The 4 types of People

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


💐💐💐💐💐
संसार में चार प्रकार के मनुष्य
होतें है–उत्तम,मध्यम,कनिष्ठ व
नीच।
1-उत्तम मनुष्य वे है,जो अपने
साथ बुराई करनेवालों के प्रति
भी बुराई न करके सदा भलाई
ही करतेंहै।ये मनुष्य प्रथम दर्जे
के है।
2 दूसरी श्रेणी के मध्यम मनुष्य
वे है,जो अपने प्रति बुराई
करनेवालों के साथ न तो
भलाई करतें हैऔर न बुराई
ही।उनका निश्चय होता है कि
हमारा जो कुछ अनिष्ट हुआ
है या हो रहा है,इसमें प्रारब्ध
ही कारण है,किसी का कोई
दोष नहीं है,वे निमित्त मात्र है
3 तीसरी श्रेणी के वे कनिष्ठ
मनुष्य है ,जो अपने प्रति
बुराई करनेवालों के साथ
बुराई करतें है और उनसे
बदला लेने का यत्न करतें है
4 चतुर्थ श्रेणी के नीच मनुष्य
वे है,जो भलाई करनेवालों
के साथ भी बुराई ही किया
करतें है।ऐसे लोगों के द्वारा
किसीका भला होना संभव
नहीं।उपर्युक्त चारों श्रेणियों
के मनुष्योंके साथ अपना
भला चाहने वाले पुरुषको
सदा सद्व्यवहार ही करना
चाहिए।।
💐💐💐💐
💐💐
💐💐💐

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9 − nine =

Related Posts

Aap ek Atma hain 6 March 2021

Spread the love          Tweet     हमारा अपना स्वरूप यह शरीर नहीं है;यह परम आत्मा ही हम सभी का वास्तविक स्वरूप है और इस हमारे स्वरूप आत्मा के लिये तो भगवान् श्रीकृष्णजी कहते हैं

Secrets of the Himalayas

Spread the love          Tweet     अद्भुत है हिमालय का रहस्य, इसीलिए आज भी रहते हैं रामायण और महाभारत काल के ये पात्र!!!!!!!! *सिद्ध तपोधन जोगिजन सुर किंनर मुनिबृंद।बसहिं तहाँ सुकृती सकल सेवहिं सिव

Sanatan Dharam was Worldwide

Spread the love          Tweet     विश्वमेंफैलासनातनधर्म सप्तद्वीपपरिक्रान्तं जम्बूदीपं निबोधत। अग्नीध्रं ज्येष्ठदायादं कन्यापुत्रं महाबलम।। प्रियव्रतोअभ्यषिञ्चतं जम्बूद्वीपेश्वरं नृपम्।। तस्य पुत्रा बभूवुर्हि प्रजापतिसमौजस:। क्या प्राचीनकाल में संपूर्ण धरती पर फैला था हिन्दू धर्म मैक्सिको, अमेरिका, रूस,