Uses of Ilaichi, Hing ka pani and Desi Cow ghee

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

: इलायची खाने का स्वाद ही नहीं बढ़ाती, सेहत और सुंदरता भी बढ़ा ghee हैं, जानिए कैसे..

भारतीय पकवानों में डलने वाला एक महत्वपूर्ण मसाला है इलायची। अगर अभी तक आपको लगता था कि इलायची खाने में इस्तेमाल करने से केवल खाने की महक और स्वाद ही बढ़ता है, तो आप गलत सोच रहे हैं। इलायची का इस्तेमाल आपके भोजन का स्वाद बढ़ाने के साथ ही आपकी सेहत और सुंदरता को भी बढ़ा सकता है। आइए जानते हैं कि कैसे –

  1. यदि आपको कील-मुंहासे की समस्या रहती है तो आप नियमित रात को सोने से पहले गर्म पानी के साथ एक इलायची का सेवन करें। इससे आपकी त्वचा संबंधी समस्या दूर होगी।
  2. यदि आपको पेट से संबंधित समस्या है, आपका पेट ठीक नहीं रहता या आपके बाल बहुत ज्यादा झड़ते है तो इन सभी समस्याओं से बचने के लिए आप इलायची का सेवन करें। इसके लिए आप सुबह खाली पेट 1 इलायची गुनगुने पानी के साथ खाएं।
  3. दिनभर की बहुत ज्यादा थकान के बाद भी अगर आपको नींद आने में परेशानी होती है तो इसका उपाय भी इलायची है। नींद नहीं आने की समस्या से निजात पाने के लिए आप रोजाना रात को सोने से पहले इलायची को गर्म पानी के साथ खाएं। ऐसा करने से नींद भी आएगी और खर्राटे भी नहीं आएंगे।
    ‘हींग का पानी’ पीने के ऐसे असरदार फायदे जो आपने कभी नहीं सुने होंगे

1 कब्ज की शिकायत होने पर हींग का प्रयोग लाभ देगा। रात को सोने से पहले हींग के चूर्ण को पानी में मिलाकर पिएं और सुबह देखें असर। सुबह पेट पूरी तरह से साफ हो जाएगा।
2 अगर भूख नहीं लगती या भूख लगना कम हो गया है, तो भोजन करने से पहले हींग को घी में भूनकर अदरक और मक्खन के साथ लेने से फायदा होगा और भूख खुलकर लगेगी।
3 त्वचा में कांच, कांटा या कोई नुकीली चीज चुभ जाए और निकालने में परेशानी आ रही हो, तो उस स्थान पर हींग का पानी या लेप लगाएं। चुभी हुई चीज अपने आप ही बाहर निकल आएगी।
4 अगर कान में दर्द हो रहा हो, तो तिल के तेल में हींग को गर्म करके, उस तेल की एक-दो बूंद कान में डालने से कान का दर्द पूरी तरह से ठीक हो जाएगा।
5 दांतों में कैविटी होने पर भी हींग आपके लिए काम की चीज साबित हो सकता है। अगर दांतों में कीड़े हैं, तो रात को दांतों में हींग लगाकर या दबार सो जाएं। कीड़े अपनेआप निकल आएंगे।
: 🌹देशी गाय का घी शारीरिक, मानसिक व बौद्धिक विकास एवं रोग-निवारण के साथ पर्यावरण-शुद्धि का एक महत्त्वपूर्ण साधन है |

इसके सेवन से –

🌻१) बल, वीर्य व आयुष्य बढ़ता है, पित्त शांत होता है |

🌻२) स्त्री एवं पुरुष संबंधी अनेक समस्याएँ भी दूर हो जाती है |

🌻३) अम्लपित्त (एसिडिटी) व कब्जियत मिटती है |

🌻४) एक गिलास दूध में एक चम्मच गोघृत और मिश्री मिलाकर पीने से शारीरिक, मानसिक व   दिमागी कमजोरी दूर होती है |

🌻५) युवावस्था दीर्घकाल तक रहती है | काली गाय के घी से वृद्ध व्यक्ति भी युवा समान हो जाता   है |

🌻६) गर्भवती माँ घी – सेवन करे तो गर्भस्थ शिशु बलवान, पुष्ट और बुद्धिमान बनता है |

🌻७) गाय के घी का सेवन ह्रदय को मजबूत बनता है | यह कोलेस्ट्रोल को नहीं बढाता | दही को   मथनी से मथकर बनाये गये मक्खन से बना घी ह्रदयरोगों में भी लाभदायी है |

🌻८) देशी गाय के घी में कैंसर से लड़ने व उसकी रोकथाम की आश्चर्यजनक क्षमता है |

🌼ध्यान दें : घी के अति सेवन से अजीर्ण होता है | प्रतिदिन १० से १५ ग्राम घी पर्याप्त है |

🌹नाक में घी डालने से –

१) मानसिक शांति व मस्तिष्क को शांति मिलती है |
२) स्मरणशक्ति व नेत्रज्योति बढती है |
३) आधासीसी (माइग्रेन) में राहत मिलती है |
४) नाक की खुश्की मिटती है |
५) बाल झड़ना व सफ़ेद होना बंद होकर नये बाल आने लगते हैं |
६) शाम को दोनों नथुनों में २ – २ बूंद गाय का घी डालने तथा रात को नाभि व पैर के तलुओं

🌻में गोघृत लगाकर सोने से गहरी नींद आती है |

🌼मात्रा : ४ से ८ बून्द
🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉

1 thought on “Uses of Ilaichi, Hing ka pani and Desi Cow ghee”

  1. May I just say what a relief to uncover a person that truly knows what they’re discussing on the internet. You definitely realize how to bring a problem to light and make it important. A lot more people need to read this and understand this side of the story. I was surprised that you’re not more popular because you surely possess the gift.

    http:///www.manulescu.com – manu manumanu

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 8 =

Related Posts

Remedies for worms, Warts and Stalvasti

Spread the love          Tweet     🍃 आरोग्य:- पेट के कीड़े नष्ट करने के कुछ सरल उपाय:- अनार के छिलकों को सुखाकर चूर्ण बना लें। यह चूर्ण दिन में तीन बार एक-एक चम्मच लें,

Medicine for fractures and wounds

Spread the love          Tweet     *अस्थि संहार (हड़जोड़) हड्डी जोड़ने वाला पौधा *आयुर्वेदिक लेप* हिंदी में इसको हर जोरा कहा जाता है गुजराती में बेदारी कहते हैं इसकी डालिया चौकोर होती है और

Tips for Liver

Spread the love          Tweet     लीवर की परेशानी है तो जरुर पढ़े व् शेयर भी करे〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️आज कल चारो और लीवर के मरीज हैं, किसी को पीलिया हैं, किसी का लीवर सूजा हुआ हैं,