Ayurved Vatt, Pitta, Kaph

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

⚪🔴🟡 वात, पित्त और कफ 👉 किन पदार्थों से होते हैं और क्या सेवन करने से वे जाते हैं – 📜संपूर्ण जानकारी

⚪📈📈 वायु बढ़ानेवाले पदार्थ :

जौ, ज्वार, मक्का, राजमा, मोठ, मसूर, चना, मटर, अरहर, सेम, सरसों, चौलाई, पालक, पत्तागोभी, लौकी, तुरई, टिंडा, ग्वारफली, अरवी, आलू, ककड़ी, तरबूज, जामुन, अमरूद, सिंघाड़ा, नाशपाती, गन्ना, शहद |

⚪📉📉 वायुशामक पदार्थ :

साठी के चावल, गेहूँ, बाजरा, उड़द, कुलथी, तिल, बथुआ, पुनर्नवा, परवल, पोई, कोमल मूली, पेठा, सहजन की फली, जीवंती (डोडी), भिंडी, गाजर, शलगम |

अखरोट, काजू, बादाम, पिस्ता, चिलगोजा, चिरौंजी, मुनक्का, किशमिश, खजूर, अंजीर,
फॉलसा, बेल, देशी (बीजू) आम, मीठा बेर,
व अनार, आँवला, बिजौरा नींबू, नारंगी, केला, शेहतूत, अंगूर, नारियल, सेब, खरबूज, सीताफल, लीची, पपीता, इमली, लहसुन, प्याज, अदरक, सोंठ, हींग, सौंफ, जीरा। काली मिर्च, मेथी, इलायची, दालचीनी, केसर, गुलाब। तिल, सरसों व अरण्डी का तेल, गाय, भैंस व बकरी का दूध, ताजा-मीठा दही, छाछ, मक्खना।

🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅

🔴📈📈 पित्तवर्धक पदार्थ :

बाजरा, उड़द, तिल, सेम,/सरसों, पकी मूली व ककड़ी, सूरन (जमींकंद), गाजर, आलू, अरवी, अखरोट, काजू, बादाम, पिस्ता, चिलगोजा, चिरौंजी, बेल, खट्टे फल, अदरक, अजवायन, सौंफ, लहसुन, प्याज, काली मिर्च, मेथी, तिल एवं सरसों को तेल, छाछ | |

🔴📉📉 पित्तशामक पदार्थ :

चावल, जौ, गेहूँ, ज्वार,
मक्का, मूँग, राजमा, मोठ, मसूर, चना, अरहर, चौलाई, करेला, बथुआ, पुनर्नवा,-परवल, पोई, पालक, पत्तागोभी, पका पेठा, लौकी, तुरई, कोमल ककड़ी व खीरा, टिंडा, कोमल बैंगन व मूली, डोडि, भिंडी, ग्वारफली, शलगम, मुनक्का, किशमिश, खजूर, अंजीर, फालसा, देशी आम, जामुन, अनार, शहतूत, अंगूर, मोसंबी, नारियल, सेब, सिंघाड़ा, खरबूज, अमरूद, सीताफल, कटहल, नींबू, हरा व सूखा धनिया, जीरा, लोंग, इलायची, दालचीनी, कैंसर, खस, गुलाब, शहद, गन्ना, दूध, घी, पुराना गुड़, मक्खन, मिश्री l

🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅

🟡📈📈 कफवर्धक पदार्थ :

उड़द, तिल, पोई, लौकी, तुरई, ककड़ी, खीरा, भिंडी, अखरोट, काजू, बादाम, पिस्ता, चिलगोजा, चिरौंजी, मुनक्का, केला, सिंघाड़ा, सेब, अनन्नास, अमरूद, सीताफल, लीची, आलू बुखारा, कटहल, गन्ना, सफेद गाय व भैस
का दूध, ठीक-से न जमा हुआ दही, घी, मक्खन, मिश्री l

🟡📉📉 कफशामक पदार्थ :

साठी के चावल, जौ ज्वार, बाजरा, मक्का, मूँग, राजमा, कुलथी, मोठ, मसूर, चना, मटर, अरहर, सेम, चौलाइ, करेला, बथुआ, पुनर्नवा, परवल, पालक, मूली, फूल गोभी, पत्ता गोभी, सहज़न की फली व फूल, टिंडा, बैंगन, सूरन, गाज़र, शलगम, डोडि, खजूर, बेल, जामुन, आँवला, हरें, मीठे अंगूर व अनार, तरबूज, पपीता, अदरक, सोंठ, सौंफ, अजवायन, हरा व सूखा धनिया, लहसुन, हिंग, काली मिर्च, जीरा, मेथी, जायफल, लौंग, इलायची, दालचीनी, केसर, खस, गुलाब, तिल एवं सरसों का तेल, शहद, बकरी का दूध व दही, छाछ, गोमूत्र, एक वर्ष पुराना घी व पुराना गुड़ ।
🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅🔅

👉📌 विशेष :

1️⃣. वायुशामक पदार्थों में तिल का तेल, पित्तशामक में गाय का घी व कफशामक में 🍯शहद सर्वश्रेष्ठ है ।

2️⃣

⚪❌ वायु नाशक 💦जल 👉
चार भाग जल में से 1 भाग-जल औटाकर (सुखाकर), शेष 3 भाग जल ⚪❌वायुनाशक हैं l

🔴❌ पित्त नाशक 💦जल 👉
2 भाग औटाकर आधा शेष जल 🔴❌ पित्तनाशक हैं l

🟡❌ कफ नाशक 💦जल 👉
3 भाग औटाकर एक चौथाई शेष जल 🟡❌कफनाशक होता है।

3️⃣ मीठा, खट्टा व खारा रस वात शामक, कड़वा, कसैला व मीठा रस पित्तशामक तथा कड़वा, कसैला व तीखा रस कफशामक होता है l

4️⃣ वर्षा ऋतु वातवर्धक, शरद ऋतु पित्तवर्धक व वसंत ऋतु कफवर्धक है, अतः इन दिनों में विशेष सावधानी रखनी चाहिए l

5️⃣🍈 “भोजन के आदि, अंत व मध्य में सर्वदोषनाशक, फलों में श्रेष्ठ 🍈आँवले का (या आँवला चूर्ण का) निरंतर सेवन मनुष्यों के लिए उत्तम है l’
——————————————————————

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

20 − 4 =

Related Posts

Akelapan yani loneliness

Spread the love          Tweet     एकान्त और एकाकीपन अकेलापन दो प्रकार का होता है – एकान्त और एकाकीपन। इस शब्द का अर्थ है – अपने होने के रस मे निमग्न रहना,जिस दशा मे

Drink water according to your weight

Spread the love          Tweet     जानिए, वजन के अनुसार पूरे दिनभर में कितना पानी पीना चाहिए? हमारे शरीर का ज्यादातर हिस्सा पानी से बना हुआ है, इसलिए मानव शरीर में पानी की अहमियत

Remedies for greying hair

Spread the love          Tweet     ,🌺रोग परिचय :🌾 बाल सफेद होने से रोकने की दवा :🌾 रोग परिचय :🌼 🥀आधुनिक परिवेश में सभी स्त्री-पुरुष अधिक से अधिक सज-संवरकर सबसे सुंदर और आकर्षक बने