Author: admin

Maa Danteshwari TempleMaa Danteshwari Temple

इक्यावन शक्तिपीठों में से एक माँदंतेश्‍वरी मंदिर〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰🌼〰〰छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र की हसीन वादियों में स्तिथ है, दन्तेवाड़ा का प्रसिद्ध दंतेश्‍वरी मंदिर। देवी पुराण में शक्ति पीठों की संख्या 51 बताई

Sources of Vitamin D 16 April 2021Sources of Vitamin D 16 April 2021

👜👛👜👛👜👛👜 विटामिन डी के स्रोत इन चीजों को खाने से नहीं होगी विटामिन डी की आमतौर पर ऐसा माना जाता है कि विटामिन डी सिर्फ हड्ड‍ियों के लिए ही जरूरी

Astrology tips 15 April 2021Astrology tips 15 April 2021

ज्योतिष चर्चा📖🔰📖🔰कुण्डली के कुछ अशुभ योगों की शान्ति🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟🌿🌟1).चांडाल योग=🌟🌟🌟🌟🌟गुरु के साथ राहु या केतु हो तो जातक बुजुर्गों काएवम् गुरुजनों का निरादर करता है ,मोफट होता है,तथा अभद्र भाषाका प्रयोग

Ancient Science Viman Shastra 15 April 2021Ancient Science Viman Shastra 15 April 2021

#विमानिका_शास्त्र” #विमान_शास्त्र भारतीय विमान शास्त्र : सनातन वैदिक विज्ञान का अप्रतिम स्वरूप सनातन वैदिक ग्रंथोँ एवं प्राचीन मनीषी साहित्योँ मेँ वायुवेग से उड़ने वाले विमानोँ (हवाई जहाज़ोँ) का वर्णन है,

Astrology tips 14 April 2021Astrology tips 14 April 2021

जन्म कुंडली मे जेल जाने के योग🔹🔹🔸🔹🔸🔹🔸🔹🔹किसी भी कुंडली में सितारों की स्थिति येभी बता देती है कि जेल यात्रा के योगहै या नहीं। कुंडली में सूर्य, शनि, मंगल औरराहु-केतु

History and Science of Nav Samvatsar 14 April 2021History and Science of Nav Samvatsar 14 April 2021

नव वर्ष का प्रारंभ चैत्र प्रतिपदा से ही क्यों?〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️भारतीय नववर्ष का प्रारंभ चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से ही माना जाता है और इसी दिन से ग्रहों, वारों, मासों और संवत्सरों का

Importance of Shree Chaitra Navratri 13 April 2021Importance of Shree Chaitra Navratri 13 April 2021

वासन्तीय या चैत्र नवरात्रों का महत्व॥ वसन्त ऋतु के आगमन के पश्चात एक के बाद एक व्रतोत्सव-पर्व-त्यौहारों के आने का क्रम प्रारम्भ होने लगता है। वसन्त ऋतु में सभी के

Ancient Science of Navratri 13 April 2021Ancient Science of Navratri 13 April 2021

नवरात्रि क्या है??? और नवरात्र का वैज्ञानिक और आध्यात्मिक रहस्य……. नवरात्र शब्द से नव अहोरात्रों (विशेष रात्रियां) का बोध होता है। इस समय शक्ति के नव रूपों की उपासना की